बवासीर के कारण और बवासीर को दूर करने के आसान उपाय – Bavasir Ke Karan

बवासीर एक गंभीर बीमारी है जो किसी किसी मरीज के लिए बहुत ज्यादा खतरनाक हो जाती है.बवासीर का इलाज कैसे करें, बवासीर के अक्षर दो प्रकार होते हैं एक अंदर ही और एक बाहरी बवासीर अंदर वाली बवासीर और बाहरी बवासीर इसके प्रकार हैं बाहरी बवासीर में मस्सा हो जाता है.

बवासीर के मस्से सुखाने के उपाय
बवासीर के मस्से सुखाने के उपाय

और इसमें दर्द कम होता है, और खुजली अधिक होती है. लेकिन इस में खुजली के कारण इस में खून आने लगता है और इंसान परेशान हो जाते हैं हो जाते हैं. पहले यहां पर केवल खून का रिसाव होता है और बाद में पिचकारी की तरह खून फेंकने लगता है. बवासीर का इलाज और इसे रोकने के लिए आप कई तरीके अपनाते हैं लेकिन इसका आसान और अचूक घरेलू उपाय भी है.

बवासीर के कारण और  बवासीर का इलाज कैसे करें

जो कि आयुर्वेद में बवासीर का इलाज  संभव है और अंदर की बवासीर में मस्से एक गुर्दे के अंदर होते हैं गुदे और कब्ज की वजह से के कारण मल करते समय जोर लगाने से खून बाहर आ जाता है और रोगी इस दर्द से तड़पता है और अगर इससे मस्से छिल जाए व बवासीर का इलाज न हो, तो दर्द इतना बढ़ जाता है. कि व्यक्ति नर्क झेल रहा होता है.

बवासीर का इलाज केवल और केवल आयुर्वेद के पास भी है आप बवासीर चाहे वह बाहर ही हो या आंतरिक इसे आप कुछ उपाय “जो नीचे लिखे हैं” करके बवासीर को जड़ से खत्म कर सकते हैं. बवासीर का इलाज करने के कुछ घरेलू उपाय है,नीचे 10 उपाय लिखे हुए हैं.

मलद्वार में मस्से का इलाज
मलद्वार में मस्से का इलाज

जिनमें आप किसी एक को करके जो आपको आसान लगे बवासीर को खत्म कर सकते हैं. सबसे पहले आपका यह जानना जरूरी है कि बवासीर के कारण क्या है यह किन कारणों से होती है. बवासीर होने के कई कारण होते हैं जैसे अधिक देर तक एक ही जगह कुर्सी पर बैठे रहना.

ज्यादा तेज मिर्च-मसाले वाले भोजन का सेवन करना, देर तक गाड़ी या बाइक चलाना, देर रात तक काम करना या फिर मल त्याग करते समय ज्यादा जोर लगाना और मोटापा भी एक कारण हो सकता है, बवासीर को बढ़ाने में. और जो लोग पानी कम पीते हैं उन्हें बवासीर की समस्या होती है मानसिक रोग और तनाव ग्रस्त व्यक्ति को भी बवासीर हो सकती है.

बवासीर के मस्से कैसे नष्ट करे

तो आप जान गए होंगे कि किन कारणों से बवासीर होता है बवासीर को खत्म करने के लिए कुछ प्राकृतिक घरेलू उपाय हैं जिनका उपयोग कर आप बवासीर को जल्द से जल्द मिटा सकते हैं सबसे पहला और महत्वपूर्ण और असरदार फायदा किससे होगा जानने के लिए आगे पढ़ते जाएँ. ये भी पढ़ें >> पीले दांतों को सफेद कैसे चमकाएं

पहला इलाज: बवासीर का इलाज करने के लिए सबसे पहले कपूर कपूर और नीम की टिकिया बनाकर. आप अपने बवासीर का इलाज कर सकते हैं कैसे सबसे पहले गैस पर तवा रखें और तवे पर नीम की कुछ पक्तियां रखें और इसे धीमी आंच पर सेकें. धीमी आंच पर घी डालकर गर्म करें.

बवासीर को खत्म करने के लिए कुछ प्राकृतिक घरेलू उपाय
बवासीर को खत्म करने के लिए कुछ प्राकृतिक घरेलू उपाय

अब इसमें थोड़ा सा कपूर डालकर इसकी टिकिया बना लें. और कपूर नीम और घी से बनी टिकिया को अपने गुदा द्वार पर लगा ले. और इससे गुदा में बना हुआ मस्सा अपने आप ही ठीक हो जाएगा.

दूसरा इलाज: इसमें आपको नारियल का तेल लेना है और रूई को टुकड़े से उसे नारियल के तेल में भिगो लें और इसे आराम-आराम से अपने गुदा द्वार पर लगाएं. इससे आपके गुदाद्वार में हुए मस्से धीरे-धीरे खत्म हो जाएंगे.ये भी पढ़ें यूरीन इन्फेक्शन और उसका सरल उपाय

बवासीर को दूर करने के आसान उपाय

तीसरा इलाज: यह बहुत ही महत्वपूर्ण उपाय हैं इसमें आप रीठे के फल का बीज निकालकर बाकी बचे हुए भाग को लोहे की कढ़ाई में सेक लें. फिर जितनी मात्रा में भी रीठा लिया है उतनी मात्रा में पपड़िया कत्था ले और एक सूती कपड़े से उसे छानकर उसका चूर्ण बना लें. यानी इन दोनों को अच्छी तरह से पीसकर सूती कपड़े से छाने और यह बनाया गया चूर्ण मैं से 125 ग्राम मक्खन या मलाई के साथ सुबह श्याम को इसका सेवन करना है.ये भी पढ़ें  मर्दानगी के लिए रामबाण दवा

इस आयुर्वेदिक औषधि को आपको केवल 1 सप्ताह तक लेना है इससे आपका कब्ज तो दूर होगा ही और आपके जटिल से जटिल बवासीर का इलाज हो जाएगा और यदि बवासीर का मरीज इस रोग से हमेशा के लिए छुटकारा पाना चाहता है तो वह हर छह माह के भीतर इस चूर्ण का सेवन 1 सप्ताह के लिए करता रहे और इसी तरह बार-बार करें. बवासीर का इलाज आसानी से होगा.

चौथा इलाज:  इस उपाय में आपको घर में उपस्थित सामान्य चीज (वस्तु) का उपयोग करना है, जैसे हल्दी और ग्लिसरीन का उपयोग करके आप बवासीर के मस्सों को खत्म कर सकते हैं. सबसे पहले आप हल्दी और ग्लिसरीन का पतला पेस्ट बना लें, और उस पेस्ट में रुई को डुबोकर अपने गुदा में उपस्थित मस्सों वाले जगह पर लगाएं आप पाएंगे कि कुछ ही दिनों में मस्से दूर हो जाएंगे और बवासीर भी खत्म हो जाएगा. ये भी पढ़ें  सफ़ेद पानी का इलाज 

बवासीर का आयुर्वेदिक दवा

पांचवा इलाज: लौकी के रस से भी आप बवासीर आप बवासीर को दूर कर सकते हैं लौकी के रस में रुई डुबोकर अपने गुदाद्वार में बांध लें ऐसे आप पाएंगे कि कुछ ही दिनों में आपका बवासीर खत्म हो जाएगा और आप बवासीर के रोग से निजात पा लेंगे.

बवासीर का आयुर्वेदिक दवा
बवासीर का आयुर्वेदिक दवा

छठवा इलाज: नीम के पत्तों से आप बवासीर के रोग से निजात पा सकते हैं. सबसे पहले आप बवासीर के इलाज के लिए नीम के पत्तों व नीम की छाल को अच्छी तरह से पीसकर इसका रस निकालने और इस रस को अपने गुदाद्वार पर लगाएं. यह सटीक और रामबाण इलाज है, जो आपके बवासीर को हमेशा के लिए नष्ट कर देगा.

सातंवा इलाज: यह बहुत ही आम उपाय हैं इसके लिए आपको ज्यादा मेहनत नहीं करनी पड़ेगी. आप केवल मूली और नीम के पत्तों का रस मिलाकर बवासीर से निजात पा सकते हैं. इसे आप अपने गुदाद्वार पर लगाएं, इसके लिए आप रुई या किसी कपड़े का इस्तेमाल कर सकते हैं और आप को 10 से 12 दिनों में ही बहुत आराम मिलेगा.

बादी बवासीर की अचूक दवा

आठवां इलाज: आंवला और करेला इस उपाय के लिए आपको सबसे पहले आंवला का रस निकाल लेना है और उसके बाद 8 से 10 करेले के बीज लेना है और उन बीजों को पीसकर आंवले के जूस में मिला लें और इस बनाए गए पेस्ट को अपने गुदाद्वार पर लगाएं. ऐसा रोज सुबह-श्याम करने से आपको बबासीर से मुक्ति मिलेगी.

नवां इलाज: यह बहुत ही गजब का उपाय है चाय की पत्ती चाय की पत्ती से आप किस प्रकार बवासीर से निजात प्राप्त कर सकते हैं. चाय को पीने के बाद चाय की पत्तियों को और उन्हें पीसकर एक पेस्ट बना लें और इस बनाए गए पेस्ट को हर रोज अपने गुदाद्वार पर लगाएं, मस्सा अपने आप ही झड़ जाएगा. इसका मतलब चाय पीना भी आपके लिए फायदेमंद है, और इससे आप बवासीर से निजात पा सकते हैं.

दसवा इलाज:  फिटकरी पाउडर आपको किस तरह से बवासीर से निजात दिलाएगा जानने के लिए पढ़ें सबसे पहले फिटकरी लें और इसे इमाम दस्ते में कूट लें और इसे कूट-कूटकर महीन चूर्ण बना लें. इस चूर्ण में खीरे का रस और थोड़ी सी हल्दी मिला लें और इस पेस्ट को सुबह और शाम अपने गुदाद्वार में लगाएं.

बवासीर के मस्से सूखने की दवा

कुछ ही दिनों में आपको लाभ प्राप्त होना शुरू हो जाएगा. यदि आप को बवासीर का इलाज में से भी फायदा ना मिले तो आप कुछ फल शल्य चिकित्सा में भी कर सकते हैं. लेकिन वे काफी घातक और दर्दनाक होती है और उनमे असहनीय दर्द होता है. इसलिए बवासीर का इलाज आप घरेलू उपाय से करें.

यदि परंपरागत तथा सरल प्रक्रियाएं से भी बवासीर का इलाज विफल हो जाए, तो आप सारी शल्य चिकित्सा तकनीकी भी इस्तेमाल कर सकते हैं. लेकिन याद रकहें है, सभी शल्य चिकित्सा के उपचार में कुछ परेशानियों होती हैं, जिसमें रक्त स्त्राव, संक्रमण, गुदा का सिकुड़ना तथा मूत्र प्रतिधारण शामिल है एक यह आपको बवासीर के अलावा कई बीमारियां और भी दे सकते हैं. इसलिए चले चिकित्सा शल्य चिकित्सा कराने से पूर्व एक बार विचार कर लें. इसलिए जंहा तक हो सके आप शल्यचिकित्सा का उपयोग न करे तो ही आपके के लिए लाभदायक होगा.