खून की कमी के लक्षण और उपचार

खून की कमी का इलाज: जैसा कि आप सब जानते ही हैं कि खून की हमारे शारीर को कितनी जरुरत होती हैं| खून हमारे शारीर की हर एक कोशिका में पाया जाता हैं हमारे शरीर में दो तरह की रक्त कोशिकाएं होती हैं| पहली सफ़ेद होती हैं और दूसरी लाल होती हैं जिन्हें लाल रक्त कोशिकाएं कहा जाता हैं|

खून की कमी के लक्षण और उपचार

जब हमारे शारीर में किसी कारण से लाल रक्त कोशिकाएं कम होती जाती हैं| तब हमारे शारीर में रक्त की कमी भी हो जाती हैं और इस खून की कमी का इलाज को एनीमिया भी कहते हैं हमारे रक्त में आयरन होता हैं| जिस कारण से रक्त का रंग लाल रहता हैं और हिमोग्लोबिन भी पाया जाता हैं|

हमारे शारीर में आयरन की मात्रा बढ़कर हिमोग्लोबिन को भी बढ़ा सकती हैं| जब हमारे शारीर में रक्त की कमी हो जाती हैं तब हमारा शारीर कमजोर हो जाता हैं| जिस कारण से हमारे शारीर की रोगों से लड़ने की क्षमता कम हो जाती हैं| जिससे व्यक्ति को कई प्रकार के रोग होने का खतरा होता हैं|

ऐसा नहीं हैं ये परेशानी सिर्फ बड़ो में हो, बच्चो में भी खून की कमी हो जाती हैं| जिससे उनका मानसिक और शारीरिक विकास रुक जाता हैं और सही से विकास नहीं हो पता हैं| रिसर्च के अनुसार पुरुषो के मुताबिक महिलाओ में रक्त की कमी की समस्या अधिक देखने को मिलती हैं|

खून की कमी के कारण

पेट में इन्फेक्शन होने से शारीर में खून का बनना बंद हो जाता हैं
खाने में पोषण की कमी के कारण
अधिक मात्रा में शारीर से खून का निकलना
किसी गंभीर रोग के कारण शरीर में रक्त का ना बनाना|
किडनी कैंसर होने के कारण
अधिक से अधिक रक्तस्त्राव होने से
हिमोग्लोंबिन के जीन में बदलाव होने से
हिमोलायटिक एनीमिया के कारण
विटामिन बी-12 की कमी के कारण
वंशानुगत समस्याएं के कारण
किडनी/गुर्दे फेल हो जाने के कारण
थायरायड की समस्या के कारण
दवाओं का दुष्प्रभाव के कारण अधिक दवाओं के सेवन से
टी.बी. की बीमारी होने के कारण
लीवर की बीमारियाँ के कारण

खून की कमी के लक्षण
खून की कमी के लक्षण

खून की कमी के लक्षण

आँखों का पिला हो जाना
चक्कर आना
हाथों पर पैरों का ठंडा होना
कमजोरी और थकावट महसूस होना
ह्रदय की धड़कन तेज या असामान्य होना
सिर दर्द होना सिर में दर्द अधिक समय तक होना
साँस का जल्दी फूलना
छाती में दर्द होना और सीने में ऐठन होना
लेट के उठने पर आँखों के सामने अधेरा छा जाना
त्वचा व नाखूनों का पीला होना
भूख कम लगना या भूख ना लगना

क्यों होती हैं खून की कमी

शरीर में खून की कमी होने के पीछे कही बाते होती हैं जैसे-त्रुटिपूर्ण रक्त की रचना, रक्त कोशिकाओं का नष्ट हो जाना, शरीर से बहुत से खून का बह जाना आदि| एक स्वस्थ व्यक्ति के रक्त परिसंचरण में हर दिन प्रति माइक्रोलिटर 45 हजार लाल कोशिकाएं निकल जाती हैं|

इनकी जगह हड्डी की मज्जा से प्राप्त नई कोशिकाओं द्वारा लें ली जाती हैं| खून की कमी उस समय हो जाती हैं| जब रक्त परिसंचरण से निकल जाने वाली कोशिकाओं की संख्या उनकी जगह लेने वाली कोशिकाओं से अधिक होती हैं अथवा जब लाल कोशिकाओं के उत्पादन को क्षति पहुंचती हैं|

खून की कमी से होने वाले रोग

एनीमिया: एनीमिया होने के कही कारण होते हैं जैसे ड्रग का लेना, इन्फेक्शन होना, सर्जरी में किसी प्रकार की दिक्कत, बवासीर आदि होने के कारण एनीमिया होने के संभावना होती हैं| अनीमिया भारत में 20 से 80 प्रतिशत गर्भवती महिलाओ को हो जाता हैं| 56% किशोरी लड़कियों को और 30% लडको को, 79% बच्चो में ये बीमारी हो जाती हैं|

खून की कमी से होने वाले रोग
खून की कमी से होने वाले रोग

एनीमिया होने के कारण: कभी कभी एस तरह की बीमारी आपके खान पान में गड़बड़ी से भी हो सकती हैं| अगर आप खाने में आयरन, फोलिक एसिड और विटामिन बी12 की कमी हैं| तो आप आपने खाने का ध्यान खुद ही रखे|

शारीर में जो आयरन मौजूद होता हैं उसी से हिमोग्लोबिन बनता हैं| जो रक्त में आक्सीजन पहुँचाने का काम करता हैं|

अधिकतर कुपोषण की कमी से मरने वाले लोगों में आयरन की कमी होती हैं| आयरन की कमी होने पर ज्यादा गुस्सा आना, टेंशन या किसी भी प्रकार की दिमागी परेशानी होने से भी एनीमिया होने का खतरा होता हैं|

कैंसर, अल्सर, इंटर्नल ब्लीडिंग, पीरियड्स में और प्रेगनेंसी के समय ज्यादा ब्लड निकलता हैं| जिस कारण से शारीर में खून की कमी हो जाती हैं और एनीमिया होने का खतरा रहता हैं|

शारीर में जब आयरन की कमी हो जाती हैं तो पेट में कब्ज की दिक्कत और क्रानिक डायरिया जैसी बीमारियाँ होने लगती हैं|

एनीमिया के प्रकार: एनीमिया कही प्रकार का होता हैं ये कोई एक प्रकार की बीमारी नहीं होती हैं| अलग अलग प्रकार की कमी के कारण ये बीमारी भी अलग अलग रूप में ही होती हैं|

आयरन की कमी से होने वाला एनीमिया
फोलिक एसिड की कमी से होने वाला एनीमिया
विटामिन बी12 की कमी से होने वाला एनीमिया
हिमोलेटिक एनीमिया
सिकल सेल एनीमिया
थैलेसिमिया
अप्लास्टिक एनीमिया

आँखों का पिला हो जाना
आँखों का पिला हो जाना

एनीमिया होने पर क्या खाएं

एनीमिया के उपचार के लिए आप खासतौर पर अपने खाने का ध्यान रखें
आप अपने खाने में विटामिन्स से युक्त भोजन को शामिल करें
खाने में मीट, अंडा और फिश को शामिल करें
खाने में हरी सब्जियों को भी शामिल करें
आप फलों के जूस का भी सेवन करें

एनीमिया होने पर खाने में क्या सावधानी रखें

आयरन को बॉडी में आबजर्ब होने के लिए विटामिन सी की आवश्यकता होती हैं| इसीलिए खाने में आयरन के साथ विटामिन सी जरुर लें|
चाय, काफी, और जिन चीजो में कैफीन होती हैं उन चीजों के सेवन से बचे|
एंटी-एसिड से युक्त खाना कम खाएं, क्योंकि इससे भी आयरन की कमी होती हैं|
दूध का सेवन अधिक मात्रा में करें|
अपनी डाईट में वही चीजें शामिल करें, जिनमे अधिक मात्रा में आयरन होता हैं|

खून की कमी के घरेलू उपचार

  • एक नींबू एक गिलास पानी में निचोड़ कर इसमें शहद मिला कर रोजाना पिए इससे खून की मात्रा जल्दी बढती हैं|
  • शारीर में हिमोग्लोबिन का स्तर बढाने के लिए मक्का ज्यादा फायदेमंद होती हैं| इसीलिए आप मक्के का सेवन करें ये पौष्टिक होते हैं और उबाल कर या फिर भून कर आप इसका सेवन कर सकते हैं|
  • एक गिलास चकुंदर का रस लें और उसमे शहद को मिलाकर पिए| इससे शारीर में आयरन की अधिक मात्रा मिलती हैं और शारीर में खून बनाना शुरू हो जाता हैं|
  • सोयाबीन में विटामिन और आयरन की मात्रा अधिक होती हैं| इसलिए इनका सेवन करना चाहिए आप सोयाबीन को उबालकर खा सकते हैं|
खून की कमी के घरेलू उपचार
खून की कमी के घरेलू उपचार
  • आनर का लें और फिर उसमे थोडा सा सेंधा नमक और थोड़ी सी काली मिर्च मिलाकर हर रोज पीये इससे आपके शारीर में आयरन की कमी पूर्ण हो जाती हैं|
  • गुड के साथ मूंगफली खाने से भी आयरन की कमी दूर हो जाती हैं|
  • हिमोग्लोबिन बढाने के लिए थोडा सा नमक लहसुन में मिलाकर पीस लें| और चटनी बना लें इस चटनी के सेवन से हिमोग्लोबिन का इलाज करने में मदद मिलती हैं|
  • एनीमिया की बीमारी में पालक दवा की तरह काम करती हैं| पालक में विटामिन ए, सी, बी9, आयरन, फाइबर और कैल्शियम अधिक होता हैं| पालक एक ही बार में बीस प्रतिशत तक आयरन बढ़ा सकती हैं| पालक का सेवन आप सब्जी और सूप के रूप में कर सकते हैं|

खून की कमी का इलाज के आयुर्वेदिक उपचार

खून बढाने के लिए गिलोय का रस उत्तम होता हैं| आप घर पर भी गिलोय का रस बना सकते हो| शरीर में हिमोग्लोबिन की मात्रा को बढाने के लिए आंवले का रस और जामुन के रस को के सामान मात्रा में लेकर अच्छे से मिलाकर पीने से मात्रा बढ़ जाती हैं|

कच्चे सिंघाड़े खाने से शारीर में खून की कमी पूर्ण होती हैं और इससे शरीर में ताकत भी आती हैं| दो चम्मच तिल को लें और इन्हें पानी में भिगों के रख दें और फिर दो से तीन घंटे बाद इन्हें पानी से निकालकर पीस लें| और एक पेस्ट तैयार कर लें फिर इसमें एक चम्मच शहद मिलाकर दिन में दो बार खाए|

इस उपाय को करने से शारीर में खून तेजी से बढ़ता हैं|एक गिलास मीठा दूध लें और दूध के साथ आम के गूदे का सेवन करने से शरीर में हिमोग्लोबिन बढ़ता हैं|

शरीर में खून की मात्रा को बढाने के लिए क्या खाए

अपने भोजन में सरसों, पालक, हरा धनिया और पुदीना को शामिल करें| फलों में सेब पपीता, चीकू, नींबू और अमरुद का सेवन करें| पास्ता और अखरोट को जरुर खाने से सेवन करें इससे शारीर में “खून की कमी का इलाज” पूरी हो जाती हैं|
मुनक्का, किशमिश, अनाज, गाजर और दालें का सेवन रोजाना करें|