ल्‍यूकोरिया का इलाज – Leukorrhea Treatment In Hindi

ल्‍यूकोरिया का इलाज – ये समस्या केवल महिलाओं को होती है और ये समस्याएं लड़कियों बहुत ज्यादा दर्ददायक होती होती क्योंकि और इस समस्या को ल्‍यूकोरिया कहते है और ल्‍यूकोरिया का इलाज करना बहुत ही जरूरी होता है क्योंकि इसमें योनि मार्ग से आने वाले सफेद और चिपचिपे गाढ़े पदार्थ का निकलना ही ल्यूकोरिया है ये बहुत ही आम बीमारी है जिसे सामान्य भाषा में सफ़ेद पानी की बीमारी भी कहा जाता है. पर आप इस बीमारी को नजरअंदाज करने पर ये आपके लिए बहुत ही ज्यादा खतरनाक हो सकती है.

ल्‍यूकोरिया के कारण ये बीमारी ज्यादातर उन लड़कियों को होती है जिसकी शादी न हुई हो उन्हें ल्‍यूकोरिया बहुत ही जल्दी हो जाता है और इस रोग के सारे कारण है जैसे किसी पुरुष के साथ बार बार लगातार सम्भोग कराने से, या फिर बहुत दिनों तक अपनी योनि की ठीक तरह से सफाई ना करने के कारण, और योनि के संक्रमित और बार बार गर्भपात करने के कारण ये ल्‍यूकोरिया या सफ़ेद पानी की समस्या हो जाती है. और इसके अलावा योनि की अस्वच्छता, खून की कमी, गलत तरीके से सेक्‍स, बहुत अधिक श्रम, या फिर शरीर की कमजोर रोगप्रतिरोधक क्षमता और डायबिटीज के कारण योनि में ल्‍यूकोरिया की समस्या हो सकती है.

ल्‍यूकोरिया की समस्‍या से बचने के लिए शारीरिक स्वच्छता का ध्यान रखें. इसके लिए नहाते समय योनि मार्ग को अच्छी तरह पानी से साफ करना चाहिए.  मूत्र त्याग करने के पश्चात भी योनि को पानी से धो लेना चाहिए. सूती अंतःवस्त्र पहनें और दिन में दो बार अंतर्वस्त्र बदलें. मासिक चक्र के समय स्वच्छ व स्टरलाइज पैड का प्रयोग करें. ल्‍यूकोरिया की समस्‍या के रोकथाम के लिए अपने शरीर को निरोग रखने का प्रयास करें. पौष्टिक भोजन लें, समय पर भोजन खाएं और अपने खाने के प्रति लापरवाही न बरतें. साथ ही भोजन में अधिक तेज मिर्च मसालों के प्रयोग से बचें, इसके अलावा भोजन में आयरन, सलाद और हरी सब्जियों का सेवन भरपूर मात्रा में करें.

ल्‍यूकोरिया का इलाज आप बहुत ही आसानी से कर सकती है इसके इलाज केलिए आपको आमला का इस्तेमाल करना है क्योंकि आमले में विटामिन सी होता है जो शरीर को ताकत और शक्ति प्रदान करता है. साथ ही यह वेजाइना यानी योनि के बैक्‍टीरिया का भी खात्‍मा करता है जो यह ल्‍यूकोरिया की परेशानी पैदा करता है. इसलिये आपको नियमित रूप से अपने आहार और नाश्ते में आमले का सेवन करना चाहिये. ये आपकी सफेद पानी की समस्या को मिटाता है.

यदि आपको बहुत ज्यादा सफ़ेद पानी आ रहा है और शरीर में बहुत ही ज्यादा कमजोरी महसूस हो रही है तो आप बरगद के पेड़ की छाल का इस्तेमाल करें क्योंकि बरगद के पेड़ की छाल रस इसमें एंटीसेप्‍टिक गुण होते हैं. आपको केवल पानी में बरगद के पेड़ की छाल को उबाल कर छान लेना होगा. फिर इससे अपनी योनि को दिन में 3 बार धोएं. इससे आपकी योनि साफ, सूखी और स्‍वस्‍थ बनी रहेगी. ये सबसे ल्‍यूकोरिया का इलाज सबसे बेहतर है.

आम का पल्‍प पके आम का पल्‍प दिन में कई बार अपनी योनि के अंदर लगाएं. यह बेहद प्रभावशाली उपचार है. इससे यानि की खुजली और गंध दोनों ही दूर होगी. बाद में इसे 5 मिनट के बाद हल्‍के गरम पानी से धो लें. एलोवेरा सुबह एलोवेरा का जूस पीजिये और इसके जैल को अपनी योनि पर संक्रमण रोकने के लिये लगाइये भी. ऐसा करने से योनि से दुर्गन्‍ध भी आना बंद हो जाएगी. अखरोट की पत्‍ती मुठ्ठीभर अखरोट की पत्‍तियों को उबालिये और हल्‍का गर्म रह जाने तक इससे योनि को धोइये. इससे संक्रमण खतम होगा और योनि से बदबू भी नहीं आएगी.

अंजीर एक कटोरे में पानी के साथ थोड़ी सी सूखी अंजीर भिगो लें. फिर सुबह इसे हल्‍के गुनगुने पानी के साथ पीस कर खाली पेट पी लें. यह घातक बैक्‍टीरिया का नाश कर के आपको श्वेत प्रदर से मुक्‍ती दिलाएगा. केला रोजाना एक केला खाने से श्वेत प्रदर से मुक्‍ती मिल सकती है. इसमें एंटी इंफेक्‍टिव गुण होते हैं जो कि घातक बैक्‍टीरिया को योनि के अंदर फैलने से रोकते हैं. चौलाई की जड़ें चौलाई की जड़ों को पहले मिक्‍सी में पीस लें और फिर उसें पानी में 15 मिनट तक उबाल कर काढ़ा बनाएं. इसे दिन में दो बार पियें. इसमें एंटीबैक्‍टीरियल गुण होते हैं जो कि वेजाइना के संक्रमण को दूर कर सकते हैं.