पपीता खाने के लाभ तथा पपीता के औषधीय गुण

पपीता खाने के फायदे :- पपीता खाने के कई सारे फायदे है जिन्हे जानकार आप हैरान हो जायेंगे. पपीता बहुत ही आसानी से मिल जाता है और इसके कई लाभ है. यह एक ऐसा फल है जिसे बीमारी के समय भी खाया जा सकता है. और ज्यादा साइड इफेक्ट्स भी नहीं है. और पका पपीता सबसे स्वादिष्ट होता है.और इसके भीतर कई प्रकार के खनिज, पोषक तत्व और विटामिन बहुत ज्यादा मात्रा में होते है जिसकी वजह से ये हमारे शरीर के लिए बहुत ही ज्यादा फायदेमंद होता है. क्या आप जानते है पूरी दुनिआ में सबसे ज्यादा पपीता भारत में उगाया जाता है, जिसमें आंध्र प्रदेश , गुजरात , कर्नाटक , मध्यप्रदेश तथा महाराष्ट्र में सबसे अधिक पपीता का उत्पादन होता है.

हृदय रोग को खत्म करने उपयोगी:- हमारे शरीर में हमारा ह्रदय एक इंजन की तरह काम करता है यदि हृदय से सम्बंधित कोई रोग हो जाता है तो सारा शरीर कार्य करने में असक्षम हो जाता है और ज्यादातर ह्रदय रोग कॉलेस्ट्रोल के बढने के कारण होतें है. क्योंकि हृदय की रक्त शिराओं में जब कॉलेस्ट्रोल जमा हो जाता है, तो हृदय से संबंधित बीमारियां होना शरू हो जाती हैं. और पपीते के अंदर कई तरह के पोषक तत्व जैसे फाइबर, विटामिन सी और एंटी-ऑक्सीडेंट प्रचुर मात्रा में पाया जाता है जो रक्त शिराओं में कॉलेस्ट्रोल को जमा नहीं होने देता है.

जिससे हृदय रोगों के होने की संभावना कम हो जाती है.पपीते के पेड़ के दो प्रकार होते है एक नर और दूसरा मादा. जिसमे अंतर पहचानना बहुत ही आसान होता है क्योंकि नर पेड़ में फूल उगते है और मादा पेड़ में फूल नहीं उगते है. और सिर्फ मादा पेड़ पर ही फल लगते है. सर्दी और जमा हुआ पानी पपीते के पेड़  और उसके फल के लिए नुकसानदेय होता है.

पपीता खाने के फायदे और इसके औषधीय गुण

पाचन शक्ति को बढ़ाए:- ज्यादातर लोगों को जल्दी और आसानी से मिलने वाला फ़ूड पसंद होता है इसलिए ज्यादातर लोग फास्टफूड की तरफ आकर्षित हो रहे है लेकिन उन्हें इसके दुष्परिणामों के बारे में पता नहीं होता है. और फास्टफूड खाने से लोगों कई तरह की बीमारियां हो जाती है. लेकिन पपीते के भीतर कई प्रकार के एंजाइम होते है. जो पाचन क्रिया को ठीक करके आपकी पाचन शक्ति को बढ़ाने में भी आपकी मदद करता है. और इसमें डाइट्री फाइबर भी मौजुद होते है. जो आपको एनेर्गी देने में मदद करता है. पनीर गुझिया कैसे बनायें यहाँ देखें.

पपीता केवल खाने में ही नहीं बल्कि और भी कई कामों लिया जाता है. कच्चे पपीता सब्जी बनाने के काम में आता है. और इसका सलाद भी बनाया जाता है और इसके पेड़ और बीज की भी कई सारे औषधीय गुण है जो हमारे शरीर को रोगों से बचाने में हमारी मदद करते है. पपीता का प्रयोग कई प्रकार की दवा को बनाने में करते है, विशेषकर पाचन से सम्बंधित दवाओं में इसका उपयोग होता है. हमारे शरीर में प्रोटीन के पाचन के लिए पेप्सिन नामक एंजाइम का स्राव होता है. यह एंजाइम पेट में एसिड होने पर सक्रीय होता है। जबकि पपेन बिना एसिड की मौजूदगी के पेप्सिन जैसा ही प्रोटीन को पचाने काम आसानी से कर लेता है. पपीता खाने के फायदे ही नहीं बल्कि पपीता शरीर में लगाने के भी फायदे है.

पपीते में मौजूद पपेन का उपयोग च्युंगम बनाने में , कॉस्मेटिक्स में , टूथपेस्ट में , कॉन्टेक्ट लेंस क्लीनर बनाने में किया जाता है. टेक्सटाइल इंडस्ट्री, चिपकाने का सामान बनाने में भी इसका उपयोग होता है. पपेन के कारण कच्चा पपीता गर्भपात का कारण बन सकता है.पपीते में मौजूद खनिज और विटामिन जैसी विटामिन ए ,कैल्शियम , मैग्नीशियम , विटामिन बी 1, बी-3, बी-5, विटामिन E तथा विटामिन K, फोलेट, पोटेशियम, कॉपर, पैण्टोथेनिक एसिड तथा फाइबर का बहुत अच्छा स्रोत है. कई प्रकार के एंटीऑक्सीडेंट इसमें पाए जाते है जैसे ल्यूटेन , जिक्सेनथिन, क्रिप्टोक्सेंथिन आदि भी पपीते में मौजूद होते है. पपीते में कुछ मात्रा में प्रोटीन, कार्बोहाइड्रेट भी होते है.

पपीता खाने से हमारे शरीर को विटामिन C मिलता है जो प्रतिरोधक क्षमता बढ़ा कर बीमारियों से बचाता है और विटामिन A आँखों के लिए, स्वस्थ त्वचा के लिए , म्यूकस मेम्ब्रेन के लिए आवश्यक होता है. रेटिना में होने वाले मैक्युलर डिजनरेशन से बचाव के लिए जरूरी है. रोज़ पपीता खाने से हमारे शरीर में मेटाबोलिज्म की प्रक्रिया ठीक बनी रहती है. और इसका सेवन भी आपके लिए समस्या खड़ी कर सकता है. फ्री रेडिकल के कारण त्वचा पर झुर्रियां, थकान, सिरदर्द, स्मरण शक्ति कम होना, जोड़ों का दर्द, मांसपेशियों का दर्द , सफ़ेद बाल , आखों से कम दिखाई देना आदि दुष्प्रभाव सामने आने लगते है. पपीते में मौजूद एंटीऑक्सीडेंट इन हानिकारक फ्री रेडिकल के नुकसान से बचा सकते है.पपीता खाने के फायदे कई और भी है.

आँखों के लिए लाभकारी : – पपीते में बहुत अधिक मात्रा में विटामिन A और C पाया जाता है. जो आंखों की रोशनी को बढ़ाता है. उम्र के बढ़ने पर आँखों की ज्योत भी कम होती जाती है. लेकिन पपीते का नियमित सेवन करने से आँखों की रोशनी ठीक रहती है. और पीलिया होने पर पपीते का सेवन बहुत ही ज्यादा फायदेमंद होता है. और ये मसूड़ों में खून खाने और दातों की कमजोरी को दूर करने में भी मदद करता है. पपीता आपकी पाचन क्रिया को दुरुस्त बनाता है और आपको पेट से जुडी समस्यों से भी दूर रखता है. पपीता खाने के फायदे बहुत है जिसमे आंखों की रोशनी बढ़ाना सबसे अच्छा फायदा है.

बढ़ती उम्र को कम करने में :- क्या आप को यह ज्ञात है कि पपीता आपकी कि उम्र को बढ़ें से रोकता है. क्योंकि जैसा को आपको मालूम है कि पपीते में विटामिन सी, विटामिन ई और बीटा-कैरोटीन जैसे एंटी ऑक्सीडेंट होते है. जिससे चेहरे पर चमक आती  और विटामिन त्वचा से झुर्रियों को दूर रखते हैं पपीता खाने के फायदे सबसे ज्यादा है. और असमय होने वाली त्वचा की समस्याओं को भी सही करते हैं. इस फल को रोजाना खाने की आदत आपको लंबे समय तक जवां रखने में मदद करती है. पपीते में पाए जाने वाले गुण केरोटीन फेफड़े व मुंह के कैंसर को रोकता है. पपीते में कई प्रकार के एमिनो एसिड तथा एंजाइम होते है जो मसूड़ों में होने वाली सूजन और जलन को खत्म करने में आपकी मदद करता है.

पपीते का दूध कील- मुँहासे, एक्जिमा, दाद, खाज-खुजली और मुंह के छाले को दूर मिटाने में मदद करता है यदि किसी को लकवा हो गया है तो पपीते के बीजों को पीस कर उसे तिल के तेल में मिलाकर इसे उबाल लें और फिर इसे ठंडा होने दें. जब ये ठंडा हो जाएँ तो इसे जिस अंग में लकवा हो गया वंहा लगाएं इसके लकवा में आराम मिलेगा. पका पपीता खाने से लीवर को ठीक और पेट साफ रहता है. और छोटे बच्चों को उलटी दस्त से बचाता है. और उनकी भूख को भी बढ़ाता है.

जले कटे को करे ठीक : -पपीता खाने के फायदे केवल खाने के ही नहीं बल्कि इसे लगाने के भी है. किसी को खेलते समय अथवा काम करते समय चोट लग जाएँ तो उसे पपीते का इस्तेमाल करना चाहिए क्योंकि पपीते में एंटी इंनफलेमेट्री गुण होते है जो सूजन की समस्या को ठीक करता है, साथ ही रगड़, छाले और जले भाग पर कच्चे पपीते का रस लगाने से जलन कम होती और घाव भी जल्दी भर जाता है.