Acidity Ka Gharelu Ilaj In Hindi

Acidity Ka Gharelu Ilaj: आज के समय में हमारा खान पान जो हैं वो बिलकुल भी सही नहीं हैं| स्वस्थ रहने के लिए सही खान पान का होना जरुरी हैं| क्योकि मानव को जीवित रहने के लिए खान पान की ही जरुरत होती हैं| लेकिन आज के समय में वहीँ खान पान सही नहीं रहा तो कैसे काम चलेगा|

एसिडिटी के आसान व असरदार घरेलू उपचार
एसिडिटी के आसान व असरदार घरेलू उपचार

जिस कारण से हमारा पेट ख़राब होता हैं पेट में जलन और कब्ज होती हैं| खान पान के कारण पेट की परेशानियाँ शुरू हो जाती हैं| और हमें कई समस्याओं का सामना करना पड़ता हैं पेट की परेशानियाँ में से एसिडिटी की परेशानी से लोग ज्यादा परेशान होते हैं| (Acidity Ka Gharelu Ilaj)

जब किसी व्यक्ति को एसिडिटी होती हैं तो उसके पेट में दर्द होता हैं| और खट्टी डकारे आती हैं और पेट में जलन भी होती हैं| हमारा पाचन तंत्र हमारे पेट में एक एसिड बनाता हैं जिस की वज़ह से ही हमारे खाने का पाचन हो पाता है| और हमारे पेट का पाचन तंत्र नियंत्रण में रहता हैं|

हमारे शारीर को काम करने की ताकत हमें भोजन से ही मिलती हैं| लेकिन हमारे पास आज भोजन को देने के लिए समय हो नहीं होता हैं| और और जल्दी जल्दी कुछ भी खा लेते हैं| और फिर बाद में हमें पेट की परेशानी होती हैं तो फिर हम डॉक्टर के पास जाते है और दवा लेते हैं|

एसिडिटी क्यों और कैसे होती हैं

हमारे भोजन करने के बाद जब भोजन पेट के अन्दर पाचन तंत्र में पहुँचता हैं| तब इस भोजन को पचाने के लिए हमारे पेट में एक एसिड बनता हैं| जो की पेट में भोजन को पचाने का काम करता हैं| जब यह एसिड पेट में जरुरत से ज्यादा मात्रा में बनने लगता हैं तो पेट में जलन होने लगती हैं|

एसिडिटी क्यों और कैसे होती हैं
एसिडिटी क्यों और कैसे होती हैं

जब हम भोजन अधिक मात्रा में या कोई नुकसानदायक भोजन करते हैं| तब हमारा Digestive System इस खाने को सही तरीके से पचाने में काम नहीं कर पाता हैं और वह हमारे कंट्रोल से बाहर हो जाता हैं जिस कारण से यह जरुरत से ज्यादा बनने लगता हैं और फिर पेट में एसिडिटी होने लगती हैं|

भोजन को पचाने वाले एसिड की भूमिका

  • यह एसिड विटामिन B12 का अब्सोर्ब करता हैं| और यह विटामिन हमारे दीमाग और नव्ज सिस्टम को सही रखता हैं|
  • यह एसिड हमारे पेट में पहले से मौजूद जानलेवा बैक्टीरिया को ख़त्म करने में मदद करता हैं|
  • Pepsin Enzymes को सक्रीय करता हैं जो Digestion Process में मदद करता हैं|
  • यह एसिड भोजन को पचाने वाले अंगो को सक्रीय करते हैं|
  • Intestines को भोजन में से Nutrients Absorb करने में मदद करता हैं|

पेट में एसिडिटी होने के कारण

जब हम भोजन करते हैं तब ये भोजन हमारे पेट में जाता है| फिर पेट में एक एसिड बनता हैं जो खाना को पचाने का काम करता है| लेकिन जब ये एसिड खाने को पचाने वाली मात्रा से ऊपर हो जाता हैं| तब ये पेट को नुकसान देता हैं और पेट में जलन होने लगाती हैं|

जब भोजन की मात्रा पर नियंत्रण नहीं करते तो उस समय ये एसिड अधिक मात्रा में बनता हैं| और नुकसान देता है|
अपने खाने पर विशेष ध्यान न देने के कारण से| बाजार में मिलने वाले तीखे व चटपटे खाना को खाने से| नशा या धूमपान करने से| खाली पेट चाय के सेवन से| काफी या चाय का अधिक सेवन करने से| शारीर में गर्मी का अधिक होने के कारण|

पेट में एसिडिटी होने के लक्षण

  • खट्टी व कड़वी डकारों का अधिक आना
  • घबराहट होना
  • पेट में गैस की समस्या का होना
  • खाली उबक आते रहना
  • कब्ज होना
  • उलटी आना
  • पेट में जलन सा महसूस होना
  • सर दर्द और पेट में अजीब सा महसूस होना
एसिडिटी के उपचार, Acidity Ka Gharelu Ilaj

तुलसी का उपयोग: तुलसी कई प्रकार की बिमारियों में उसे होने वाला खास पौधा हैं| इस पौधे में  Antiulcer Properties होता है जोकि Gastric Acid को कंट्रोल में रखते हैं| तुलसी के पत्तो में Mocous पदार्थ पाया जाता है जो पेट में एसिडिटी नहीं होने देता हैं| और साथ ही पाचन तंत्र को साफ भी रखता हैं|

तुलसी का उपयोग
तुलसी का उपयोग एसिडिटी के लिए

जब भी आपको एसिडिटी हो आप 5-6 तुलसी के पत्ते को लें और अच्छे से चबा चबा कर खाए| और इसके रस को चूसे|

इलाइची का उपयोग: इलाइची कफ, पित्त, वात दोष के लिए बहुत ही लाभदायक होता हैं| और इससे ऐठन में भी राहत मिल जाती हैं| आप जब भोजन कर लें और भोजन के पाचन होने के बाद 2 इलाइची को लेकर उनके दाने निकाल लें| इन एक बर्तन में पानी लेकर पानी को अच्छे से उबल लें| और इसे ठंडा होने के लिए रख दें|

अगर आपके पेट व सीने में जलन महसूस होती हैं तो आप इस इलाइची से बना कड़ा पी सकते है| इससे आपको राहत मिलेंगी|

एलोवेरा का उपयोग: एसिडिटी के लिए Aloevera सबसे अच्छा उपाय हैं अगर आप एसिडिटी से राहत चाहते हैं| तो आप खाना खाने से पहले 4 चम्मच Aloevera का  जूस पीजिये| अगर आप इस समस्या से ज्यादा ही परेशान है तो आप खाना खाने के बाद भी 4 चम्मच Aloevera का  जूस पीजिये इससे आपको जल्द ही राहत मिलेगी|

संतरे का उपयोग: संतरा का उपयोग पेट की समस्या के लिए बहुत ही लाभदायक बताया जाता हैं| इसके लिए आपको संतरा नहीं वल्कि उसका जूस लेना चाहिए| संतरा पेट की जलन, जी मचलना, उलटी होना आदि समस्याओं में राहत देता हैं|

आप एक गिलास संतरा का जूस लें और उसमे सेंधा नमक डाले और जीरा लें उसे भुन लें इन जीरो को संतरे के रस में डालकर मिला लें और फिर इस रस का सेवन करें|

अदरक का उपयोग: अदरक का उपयोग करना काफी हद तक लाभदायक हैं अदरक के रस के साथ शहद को मिलाकर पीने से भी पेट की एसिडिटी खत्म हो जाती हैं| अदरक की चाय पिने से भी पेट की एसिडिटी में लाभ होता हैं|

अदरक का उपयोग
अदरक का उपयोग एसिडिटी के लिए

पेट की गैस को दूर करने के लिए अदरक के रस के साथ बराबर मात्रा में शहद को मिलाये और इसका सेवन करें| इन दोनों का सेवन करने से पेट की एसिडिटी में आराम मिलता है|

केले का उपयोग: केले में पोटैशियम भरपूर मात्रा में पाया जाता हैं| और पोटैशियम हमारे पेट में एसिड प्रोडक्शन को सही रखने में मदद करता हैं| केले में पोटैशियम के अलावा भी कही सारे पदार्थ पाए जाते हैं| जो पाचन तंत्र से सम्बंधित विकारों को दूर करने में मदद करते हैं|

जब भी आपको लगे की अब आपको एसिडिटी की शिकायत होने लगी हैं| तब आप केले का उपयोग कर एसिडिटी से छुटकारा पाए ये एसिडिटी को जल्दी ख़त्म करने में मददगार होती हैं|

अजवायन का सेवन: अजवायन का सेवन करके पेट की एसिडिटी के लिए बहुत लाभदायक होती है अजवायन के सेवन करने के तुरंत बाद ही आपको राहत मिल जाएगी|

एक चम्मच अजवायन लें अब एक चम्मच का चौथा भाग निम्बू का रस लें| निम्बू के रस को अजवायन के साथ मिलकर चाट लें आपके पेट की गैस में आराम मिलेगा|

लौंग का उपयोग: भोजन को पचाने के लिए पाचन तंत्र का सही होना बहुत जरुरी हैं| और लौंग पाचन तंत्र को साफ बनाये रखने में सहायक होती हैं| आप खाना खाने के बाद दो लौंग को लें| और उन्हें मुंह में रख लें और चूसते रहे इसके जो रस निकले उसे पेट तक जाने दें आपको बहुत ही जल्द आराम मिलेगा|

आंवला का उपयोग: आंवला में विटामिन C भरपूर मात्रा में पाया जाता हैं| जो कफ और पित्त की शिकायत को ख़त्म करता हैं| आप आंवला के पाउडर को लें आये और फिर रोजाना दिन में दो बार आंवला के पाउडर का सेवन करें इससे आपके पेट की एसिडिटी में आराम मिलेगा|

जीरा का उपयोग: जीरे पेट की नर्व में होने वाली हलचल और अल्सर को ख़त्म करने में सहायक होता हैं| जीरे में  ऐसे असरदार पदार्थ पाए जाते हैं जो आराम देते हैं| जब भी आपको ऐसा लगे की आपको एसिडिटी होने लगी हैं| तब आप जीरे के कुछ दानो को लें और फिर पानी में इन्हे अच्छे से उबाल लें और रख लें| जब आपको लगे कि आपको एसिडिटी होने लगी हैं तब आप इसका सेवन करें|

गुड़ का उपयोग: गुड़ पेट में होने वाली जलन और पाचन सम्बन्धी सभी परेशानियों से राहत दिलाने में सहायक होता हैं| फ़ूड एसिडिटी के लिए प्राकृतिक उपचार हैं जो की पेट में पाचन यंत्रो को स्वस्थ रखता हैं| और ये पाचन के दौरान बनने वाले एसिड को जरुरत से ज्यादा नहीं बनने देता हैं| आपको गुड़ का ऐसी ही करना है इसके लिए कोई विधि नहीं होती हैं |

सौंफ का उपयोग: सौंफ पेट के पाचन तंत्र और कब्ज व गैस की शिकायत को भी दूर करता हैं| जब एसिडिटी होती हैं तब सीने में होने वाली जलन से भी राहत देती हैं| सौंफ आप चाहें तो सौंफ के कुछ दानो को लेकर चबाकर भी खा सकते हैं| या नहीं तो आप सौंफ के कुछ दानो को लेकर पानी में उबाल लें|

और फिर इसे रात भर के लिए ऐसे ही रखा रहने दें और जब आपको पेट की परेशानी हो आप इसे पी लें इससे आपको तुरंत राहत मिलेगी| जब भी आपको पेट में जलन हो आप एक गिलास पानी लें| और उसमे थोड़ा सा नमक डालकर अच्छे से घोल के पी लें|

कैसे सोना चाहिए: एसिडिटी से पीड़ित लोगों में ये बात बहुत देखी जाती हैं कि उन्हें सोते समय पेट में जलन होती हैं| यह जलन गलत तरीके से सोने से होती हैं अगर आप चाहते हैं| कि सोते समय आपको कोई परेशानी ना हो तो आप लेफ्ट साइड में सोये| इस साइड में सोने से पेट में बिलकुल भी जलन नहीं होती हैं|

कैसे सोना चाहिए
एसिडिटी से राहत पाने के लिए कैसे सोना चाहिए

Apple Cider Vinegar का उपयोग: एप्पल साइडर बिनेगर में कुछ ऐसे गुण पाए जाते हैं| जो कि एसिडिटी को ख़त्म करने में बहुत हद तक मददगार होते हैं| एप्पल में आयरन की मात्रा भी अधिक होती हैं|

एक दो चम्मच एप्पल साइडर विनेगर को पानी में मिला लें| और फिर सुबह शाम और जब भी आपके पेट में जलन महसूस होने लगे तो आप इसका सेवन करें| ये पेट की एसिडिटी के लिए सबसे अच्छा तरीका हैं|

नमक के पानी का उपयोग: जब भी आपके पेट में एसिडिटी होने लगे तो आप एक ग्लास पानी लें| और फिर उसमे थोडा सा नमक डालकर अच्छे से घोल लें| और फिर इसे धीरे धीरे पिए| नमक का पानी एसिडिटी के लिए सबसे अच्छा उपाय हैं|

नारियल के पानी का उपयोग: एसिडिटी के लिए नारियल का पानी सबसे अच्छा उपाय माना जाता हैं| जो एसिड हमारे पेट में भोजन को पचाने का काम करता हैं| नारियल का पानी उसे कण्ट्रोल में रखता हैं और एसिडिटी होने की संभाना को भी कम कर देता हैं|

तरबूज का उपयोग: तरबूज का सेवन करके एसिडिटी का उपचार बड़ी ही आसानी से किया जा सकता हैं| क्योकि तरबूज में 80% से अधिक पानी पाया जाता हैं जो की शारीर में पानी की कमी को पूरा करता हैं| जिस कारण से पेट की सभी समस्याओं से जल्द राहत मिल जाती हैं|

पेट की एसिडिटी से बचने के लिए परहेज

आजकल घर पर बने खाना को खाने से ज्यादा लोग बाहर का खाना पसंद करते हैं| जबकि ये सब को पाता होता हैं कि बाहर का खाना खाने से सेहत पर असर पड़ता हैं| लेकिन फिर भी लोग खाते ही हैं क्योकि कुछ लोगों को ऐसा मजबूरी में करना पड़ता हैं| तो कुछ लोग अपने शोक से ही ऐसा करते हैं| (Acidity Ka Gharelu Ilaj)

पेट की एसिडिटी से बचने के लिए परहेज
पेट की एसिडिटी से बचने के लिए परहेज

सुबह उठकर बिना कुछ खाए एक ग्लास पानी पीना चाहिए| आप चाहे तो इस पानी में नींबू का रस, थोडा सा शहद और जीरा पाउडर मिलाकर भी पी सकते हैं|

मुंह में बनने वाली लार को बाहर थूकने से अच्छा है कि आप इसे अन्दर ही ले यह भी एसिड को कम करने में मदद करती हैं| ठंडी चीज का सेवन करें इससे पेट की जलन में राहत मिल जाती हैं| प्रतिदिन लस्सी और दही का सेवन करें यदि आपको ये पसंद है तो आप इसे अपनी दिनचर्या में शामिल करें|

फलों के जूस का सेवन करें और हरी सब्जियों का सेवन करें| टमाटर व चावल का परहेज करें और कभी भी उड़द या राजमा की दाल को कभी भी चावल के साथ ना खाए| सुबह सुबह रोजाना खाली पेट 3 से 4 ग्लास पानी जरुर पिए|
नारियल के पानी का सेवन करने से भी लाभ होता हैं| अगर आप चाहे तो खाली पेट भी नारियल के पानी का सेवन करें इससे और भी अधिक लाभ होता हैं|

दोपहर के समय में नींबू पानी का सेवन करें| रोजाना एक केले को अपने खाने में जरुर सेवन करें| भोजन करने के बाद थोडा सा गुड खाएं|

HealthTipsInHindi is now Officially in English, Go to Viral Home Remedies For Latest Health Tips , Remedies and Treatments in English