बवासीर के घरेलु उपचार

बवासीर के घरेलु उपचार: दोस्तों आज हम एक ऐसे टॉपिक पर बात करेंगे। जिसकी जानकारी हमें होना बहुत ही जरुरी हैं। दोस्तों आज हम आपको बवासीर के घरेलु उपचार के बारे में बताएँगे. बवासीर को जिसको दूसरे शब्दों मैं पाइल्स भी कहते है। ये एक ऐसी बीमारी है। जो दर्दनाक होने के साथ-साथ बहुत ही शर्मनाक भी है। जिसको हमें दुसरो को बताने मैं बहुत ही शर्म महसूस होती है।

बवासीर का घरेलू इलाज

यह एक ऐसी बिमारी है जो की बिना इलाज़ के सही नहीं होती है। बल्कि इस बीमारी के और बढ़ने के चांस रहते है। तो आप को मैं यह सलाह देना चाहता हूँ| कि अगर आपको ऐसा लगता है कि आपको भी ये बीमारी है। तो आपको जल्द से जल्द इसका इलाज़ करवा लेना चाहिए. (बवासीर के घरेलु उपचार)

अगर आपको इस बीमारी से छुटकारा पाना है। तो हमारे द्वारा बताये गए नुस्खों को आप इस्तेमाल कीजिये आपको इससे बहुत फायदा मिलेगा।

बवासीर होता क्या है?

खूनी बवासीर: खूनी बवासीर में किसी प्रकार की तकलीफ नही होती है केवल खून आता है। बवासीर के घरेलु उपचार में ये भी शामिल है. पहले पखाने में लगके, फिर टपक के, फिर पिचकारी की तरह से सिर्फ खून आने लगता है। इसके अन्दर मस्सा होता है। जो कि अन्दर की तरफ होता है फिर बाद में बाहर आने लगता है।

बादी बवासीर: बादी बवासीर रहने पर पेट खराब रहता है। कब्ज बना रहता है। गैस बनती है। बवासीर की वजह से पेट बराबर खराब रहता है। न कि पेट गड़बड़ की वजह से बवासीर होती है। इसमें जलन, दर्द, खुजली, शरीर मै बेचैनी, काम में मन न लगना इत्यादि।

बवासीर के घरेलु उपचार

छाछ: दोस्तों हम आपको यह एक ऐसा तरीका बता रहे है। जो कि बहुत ही असर दायक है। छाछ जी हां। दोस्तों छाछ से आप अपनी इस बीमारी से छुटकारा पा सकते है। आप 1 गिलास छाछ ले और उसमे एक चुटकी नमक और एक चौथाई चम्मच अजवाइन को मिला ले। और इसे रोज़ पिए और अपनी इस बीमारी से निजात पाए।

मूली: मूली को पाइल्स से छुटकारा पाने का सबसे बेहतरीन तरीका माना गया है। इससे बेहतर कोई दूसरा बिकल्प नहीं है। आप अपने खाने के साथ मूली को सलाद के रूप में इस्तेमाल कीजिये। आप इसका इस्तेमाल नियमित रूप से करेंगे तो आपको बहुत ही जल्द आपकी परेशानी से छुटकारा मिल जाएगा।

मूली खाने से पाइल्स की बीमारी बढ़ती भी नहीं है। हम आपको इसके गुण भी बता देते है इसमें बहुत अधिक मात्रा मैं घुलनशील फाइबर पाए जाते हैं, जो मल को मुलायम करने और पाचन क्रिया को बेहतर रखने में मदद करती है।

आप इसे एक और तरीके से भी इस्तेमाल कर सकते है। आप 100 ग्राम मूली को घिस कर उसमे 1 चम्मच शहद मिला ले और इसे दिन में दो बार खाये।

सूखे अंजीर: आप बाजार से जाकर थोड़े अंजीर ले आये। और 2 अंजीरों को 1 गिलास पानी में रात के समय गला दे। और अगली सुबह खाना खाने के कम से कम 1 घंटे बाद अंजीरों को खालें। और फिर सुबह भी 2 अंजीरों को पानी में गला दें|

शाम के समय 4 या 5 बजे के टाइम खालें इससे आपको बहुत ही जल्द आराम मिलेगा अपनी परेशानी से। और आपको यह उपचार 2 -3 सप्ताह करना है नियमित रूप से।

काला जीरा: काला जीरा बवासीर के लिए बेहद ही फायदेमंद है। आप इसको इस तारीखे से इस्तेमाल कर सकते है। आप जीरे को पीस ले और उसे पानी में मिला कर पेस्ट बना ले। और फिर इसे सूजन वाली जगह पर लगाए कम से कम 15 मिनट के लिए। यह उपाए बवासीर के लक्षणों को काम करने में बहुत ही प्रभावी है।

पपीता: पपीते में बिटामिन और खनिजों का भंडार होता है। इसमें एक बहुत ही पावरफूल पाचन एन्ज़ाइम-पपेन होता है। जो कब्ज और रक्तस्त्राब बवासीर का इलाज़ करने के लिए एक शक्तिशाली फल माना जाता है। आप इसका उपयोग सुबह अपने नास्ते में कर सकते है।

इसके रस को गुदा के क्षेत्र पर लगा सकते है आपको इससे बहुत आराम मिलेगा। और आप खाने के टाइम पर कच्चे पपीते को भी शामिल कर सकते है। (बवासीर के घरेलु उपचार)

इलायची: आप इलायची से भी अपनी बीमारी का इलाज़ कर सकते है। आप 50-60 ग्राम इलायची को तबे पर भून ले और ठंडी होने के बाद इसे पीस कर इसका चूर्ण बना ले। रोज सुबह खली पेट इस चूर्ण को पानी के साथ लेने से आपकी बीमारी दूर-दूर नहीं दिखेगी।

दूध और नीबू: नीबू को ठंडे दूध के साथ सुबह-सुबह खाली पेट पिला दे। दूध ठंडा होना चाइये। लेकिन हां याद रखे दूध फ्रीज़ का ठंडा नहीं होना चाइये। इससे आपको बहुत फायदा होगा।

केला और कपूर: आपको एक केला लेना है। और उसमे देसी कपूर को पीस कर मिलाना है मतलब केले को बीच में से दो करके उसमे पिसा हुआ कपूर डाल दे। और केले को निगल जाए कियुकी अगर आप कपूर को मुँह मैं लेकर खाएंगे तो वो आपके दाँतों को बहुत नुकसान पहुंचाएगा। और आपको देसी कपूर लेना हैं|

वो जलने वाला नहीं लेना है। उस कपूर का नाम है ”भीम सैनी कपूर”(देसी कपूर) आपको यह कही भी पंसारी की दूकान पर मिल जाएगा। आपको यह उपाए कम से कम तीन दिन तक करना है आपको इससे अपनी परेशानी से निजात मिलेगी।

अरंडी का तेल: अरंडी का तेल मल को नरम करने मैं मदद करता है। सुबह में दर्द को काम करने के लिए आपको इसका इस्तेमाल करना होगा। यह मल के उन्मूलन को तुलनात्मक रूप से आसान बनाता है। आपको रात को सोते समय अरंडी के तेल को दूध के साथ उपयोग करना है।

आपको 1 चम्मच अरंडी के तेल को 1 गिलास दूध में डाल कर उसका सेवन करना है। इससे आपके गुदा क्षेत्र में नसों पर दबाब काम पड़ता है। और आपको दर्द से राहत मिलती है।

बेर फल: बेर फल यह इतना शक्तिशाली है। की यह बवासीर में हर तरह से मदद करता है। यह सूजन को कम करने कब्ज का इलाज़ करने और पाचन तंत्र को सही करने में बहुत ही उपयोगी है।

यह टेनिन का एक अच्छा भंडार है। जो पाचन तंत्र में हानिकारक आक्रमणकारियों को मारने के लिए अपने सक्रिय कार्यों के लिए जाना जाता है। यह मल को आसानी से निकालने में मदद करता है|

एलोवेरा रस: एलोवेरा आंतरिक और बाहरी बवासीर के लिए शक्तिशाली जड़ी बूटी है। यह सूजन को काम करने में मदद करता है। आप इसके रस को सूजन पर लगा सकते है और इसके रास को पी सकते है इससे आपको बहुत ही जल्दी आराम मिलेगा।

बवासीर के लिए मलहम

एलोवेरा आंतरिक और बाहरी बवासीर के लिए शक्तिशाली जड़ी बूटी है। यह सूजन को काम करने में मदद करता है। आप इसके रस को सूजन पर लगा सकते है और इसके रास को पी सकते है इससे आपको बहुत ही जल्दी आराम मिलेगा।

सावधानियां

  • बबवासीर में हमको बहुत सी साबधानियाँ बरतना पड़ता है हमको अपने खाने पीने पर बहुत ज़्यदा ध्यान देना पड़ेगा।
  • आपको आसानी से पचने वाले फाइबर जैसे-ओट्स,मक्का,गेंहू, आदि।
  • इसके अलावा अंजीर,पपीता,केले,जामुन,सेब,और ज्यादातर हरी पत्ते दार और हलके खाने पर ध्यान देना है।
  • आपको प्याज,अदरक,और लहसुन के खाने पर ध्यान देना होगा ये बवासीर ने बहुत फायदेमंद बस्तुए है।

आपको खाने के साथ-साथ पीने पर भी ध्यान देना होगा। आपको दही की लस्सी, मूली का रस, और अगर आपका पेट साफ़ नहीं रहता है। तो आप बाजार से इसबगोल की भूसी का प्रयोग करना चाइये जिससे आपका पेट बिलकुल साफ़ रहेगा।

बवासीर में क्या-क्या नहीं खाना है

आपको सफ़ेद आटा और मेंदा तो बिलकुल देखना भी नहीं है मतलब आपको इनसे तो बिलकुल परहेज करना है। वार्ना ये आपको बहुत ही जयदा परेशान करेगा। और तली हुई चीज़ों से भी परहेज करना है। तेल और बाजार में बिकने बाले खाद्य पदार्थ बवासीर के लिए बहुत ही हानिकारक होते है। इनके सेवन से बचे।

सिट्ज़ स्नान

आपको ये बहुत ही अजीब लगेगा। लेकिन हम आपको बता दे। की इससे आपको बहुत ही फायदा होगा ये स्नान आपको बहुत राहत देगा। ये कैसे होगा? हम आपको बता दे के आपको एक तब में गर्म पानी लेना है और उसमें सेंधा नमक डालना है|

फिर उसमे आपको अपने कूल्हों को डूबा कर रखना है कम से कम 10 मिनट तक। इसे आपको हो रही परेशानी से बहुत राहत मिलेगी। इससे आपकी सूजन काम हो जाएगी।

बैठने की जग़ह

हमारे लिए बैठने की जगह क्या होनी चाहिए? हमें नर्म और आराम दायक गद्दे या बेड पर बैठना होगा। योगासन और ध्यान का अभ्यास करना पड़ेगा। शांत और ख़ुश रहे। कियुकी तनाब बवासीर की समस्या को बड़ा देता है।

बवासीर के लिए व्यायाम 

बवासीर आपके लिए बहुत ही हानिकारक है। अगर आप कुछ योगासन जैसे-भुंजसान,धनुरासन,उत्तान आदि योग कर सकते है तो बवासीर के लक्षणों को काम करने में ये बेहद फायदेमंद है।

बवासीर के लिए योगासन

आपको बता दे योग करने से आपका मोटापा भी कण्ट्रोल में रहता है। और अगर आपको सुबस्त रहना है तो आपको अपने मोटापे पर कण्ट्रोल करना होगा।

मस्से हटाने की दवा और बवासीर के घरेलु उपचार

यदि आप बवासीर के घरेलु उपचार के साथ साथ इन खाने-पीने वाली वस्तुओं के साथ-साथ अपनी सूजन वाले स्थान पर लगाने वाली चीज़ों का भी उपयोग कर सकते है। हम आपको बताते है।

  • आप थोड़ी सी हल्दी को सेहुंड के दूध में मिलाकर इसकी 1 बूंद को मस्से पर लगा सकते है। इससे मास्सा बहुत जल्दी ठीक होता है।
  • 80 ग्राम अरंडी के तेल को गरम कर ले। फिर इसमें 10 ग्राम कपूर मिला कर रखे ले। मस्सो को साफ़ पानी से धो ले और कपडे से साफ़ कर ले। फिर अरंडी के इस तेल से मस्सो पर हलके हाथों से मालिश करे। इससे आप दिन में 2 बार इस्तेमाल करे। इससे दर्द,सूजन,जलन में बहुत जल्द आराम मिलेगा।
  • सहजन के पत्ते और आक के पत्तों का लेप लगाने से भी मस्सो के दर्द से आप जल्द छुटकारा प् सकते है।
  • कड़वी तोरई के रस में हल्दी और नीम का तेल मिला कर एक लेप बना ले। और मस्सो पर लगाए। और इसे लगातार इस्तेमाल करते रहे आपको इससे जल्द ही आराम मिलेगा।

HealthTipsInHindi is now Officially in English, Go to Viral Home Remedies For Latest Health Tips , Remedies and Treatments in English