फंगल इन्फेक्शन का घरेलु इलाज – Fungal Infection Remedies In Hindi

नमस्कार दोस्तों आज की इस पोस्ट में हम आपको बताएंगे कि फंगल इन्फेक्शन क्या है, और घर पर फंगल इन्फेक्शन का इलाज कैसे किया जा सकता है. अगर आपको भी फंगल इन्फेक्शन की समस्या है. तो इस पोस्ट को आप अंत तक पढ़ें, और अगर आपको जानकारी उपयोगी लगे तो इस को अपने फेसबुक प्रोफाइल पर अपने दोस्तों के बीच जरूर शेयर करें. क्योंकि फंगल इंफेक्शन एक ऐसी बीमारी है जिससे 10 में से 8 लोग प्रभावित हैं.

Fungel Infection Cure

दोस्तों फंगल इन्फेक्शन तब ज्यादा खतरनाक हो जाता है जब ये शरीर में बहुत ज्यादा फ़ैल जाता है. क्योंकि शरीर के जिस हिस्से में फंगल इन्फेक्शन होता है. वो हिस्सा तो संक्रमित होता है बल्कि और अंगों में ये फैलने लगता है. और ये बीमारी एक व्यक्ति से दुसरे व्यक्ति तक बहुत ही आसानी से फ़ैल जाती है.

और यदि इसका समय रहते ठीक तरह से इलाज न किया जाये तो. इसके साइड इफेक्ट या परिणाम बहुत ज्यादा दुखदायी और घातक सिद्ध होते है. यदि इसका समय रहते ठीक तरह से इलाज न किया जाये तो.

फंगल इन्फेक्शन का आयुर्वेदिक इलाज – Fungal Infection Treatment In Hindi

दोस्तों हम लोग फंगल इन्फेक्शन का इलाज जानने से पहले हम इस बीमारी के बारे में जान लेते हैं. कि आखिर फंगल इन्फेक्शन किसे कहते हैं और यह कितने प्रकार का होता है. यह बीमारी हमारे शरीर में किसी भी तरह के वायरल इंफेक्शन और बैक्टीरिया के संक्रमण द्वारा बन जाती है. फंगल इंफेक्शन 4 तरह का होता है जिसके बारे में हम आपको नीचे जानकारी देंगे. मात्र 60 दिनों में वज़न कैसे घटायें यहाँ पढ़ें.

स्किन फंगल इंफेक्शन कितने प्रकार का होता है? (Types of Skin Fungal Infection)

1. एथलिट फुट फंगल इंफेक्शन
2. रिंगवर्म फंगल इंफेक्शन
3. एक्जिमा फंगल इंफेक्शन
4. यीस्ट या खमीर संक्रमण फंगल इंफेक्शन

हमारे शरीर की त्वचा हमें सभी तरह के वायरल इंफेक्शन और बैक्टीरियल इंफेक्शन यानी कि संक्रमण से बचाव करती है. स्किन फंगस इंफेक्शन में रोगी के त्वचा पर सफेद परत (पपड़ी) जम जाती है. जिसमें मीठी मीठी खुजली होती है. और सही समय पर ध्यान न देने पर इसमें बैक्टीरियल इन्फेक्शन भी हो जाता है. त्वचा के संक्रमण और चर्म रोग में अंतर होता है. आँखों की रोशनी बढ़ाने के लिए घरेलु नुस्खे

स्किन फंगल इंफेक्शन, Clean Your Hand

स्किन फंगल इंफेक्शन संक्रमण से होता है जैसे रोगाणुओं, जीवाणु, वायरस, बैक्टीरिया, और फंगल के संक्रमण आदि और त्वचा में संक्रमण के लिए कीटाणु जिम्मेदार होते हैं. अगर इनकी लक्षणों को जानते हुए भी आप इसका सही समय पर इलाज नहीं करते तो संक्रमण काफी गंभीर स्थिति में भी पहुंच जाता है इसलिए अगर स्किन फंगल इंफेक्शन के लक्षण देखें तो तुरंत ही इलाज करें या फिर नजदीकी चिकित्सक को दिखाएं.

फफूंद संक्रमण के लक्षण – फफूंद संक्रमण कैसे होता है

फफूंद संक्रमण नमी में बढ़ता है, और त्वचा फफूंद संक्रमण से प्रभावित आम तौर पर बरसात के मौसम में तथा गर्मियों के मौसम और उमस भरे दिनों में या फिर नमी भरे वातावरण में इसका प्रकोप ज्यादा देखने को मिलता है. और इन्हीं खास वजह से अधिकतर लोग इन मौसम में फफूंद फंगल इंफेक्शन का शिकार हो जाते हैं.

लोगों में फंगल इंफेक्शन उनका इम्यूनिटी सिस्टम कमजोर होना मतलब की शरीर में रोग प्रतिरोधक क्षमता कमजोर होने के कारण भी यह रोग किसी भी मनुष्य में हो सकता है. क्योंकि इस मामले में रोगी की त्वचा में संक्रमण होने का जोखिम ज्यादा बढ़ जाता है. और कभी कभी यह किसी प्रकार की दवा के साइड इफेक्ट होने से भी आपकी त्वचा में  फंगल इंफेक्शन रोग हो सकता है. वक्षों को कैसे बढ़ाएं – लड़कियां अपने स्तनों को कैसे सुडौल करें

त्वचा के इंफेक्शन रोग लोगों में कई बार उनकी चमड़ी काफी देर तक पसीने में भीगने के कारण या गीले और नमी वाले कपड़े काफी समय तक पहने रहने के कारण भी यह दिक्कत आम हो सकती है.

रिंगवर्म इन्फेक्शन या दाद इंफेक्शन

रिंगवर्म या दाद के लक्षण की पहचान इस तरह से कर सकते हैं, आपकी त्वचा पर लाल लाल चकत्ते हो जाते हैं और उस जगह पर त्वचा मोटी सी दिखने लगती है. रिंगवर्म या दाद अधिकतर जननांगों में यानी कि आपकी जांगों में होता है. इसके अलावा जहां पसीना अधिक आता है ये उस जगह या फिर जिस जगह आपके बदन पर कपड़ा ज्यादा रगड़ खाता वहां हो सकती है. रिंगवर्म या दाद आपके शरीर में किसी भी स्थान पर हो सकती है.

एग्जिमा के लक्षण (Eczema)

एग्जिमा इंफेक्शन होने पर आपकी चमड़ी पर लाल चकते तो नहीं होते मगर उस स्थान पर छोटे-छोटे दाने हो जाते हैं और यह ज्यादा तकलीफदेह होते हैं. इसमें बहुत ज्यादा खुजली मचती है Eczema दाद, खाज, खुजली की जाती जैसा ही एक रोग है. Eczema अक्सर सर्दियों में ही होता है और यह गर्मियों में अपने आप सही भी हो जाता है.

Eczema दो तरह का होता है एक प्रकार के एग्जिमा में आपकी त्वचा से सुखी भूसी जैसी पपड़ी त्वचा से निकलना चालू हो जाती है और दूसरे प्रकार का एग्जिमा इस तरह का होता है जैसे गीला- गीला मवाद जैसा आपकी त्वचा में से निकलने लगता है कुछ लोगों को यह सर में भी हो जाता है और सर में हो जाने पर उस जगह के बाल झड़ने लगते हैं.

स्किन फंगल इंफेक्शन या त्वचा रोग होने पर बचाव कैसे करें

मानव शरीर में त्वचा इन्फेक्शन या स्किन फंगल इंफेक्शन हो जाने पर पैरों को हवा लगती रहना चाहिए और आप जो मोजें (जुराब) पहनते हैं वह सूती हों और रोजाना साफ धुले हुए मोज़े ही पहने.

त्वचा में फंगल इन्फेक्शन हो जाने पर बराबर मात्रा में पानी और सिरका लें और अपने पैरों को लगभग 10 मिनट तक उस में डुबो कर रखे. या फिर जिस जगह पर आपको फंगल इंफेक्शन हो रहा है उस जगह को पानी से साफ करने के बाद रुई की सहायता से बराबर मात्रा में पानी और सिरका मिलाकर प्रभावित जगह पर लगाएं और उसके थोड़ी देर बाद उस जगह पर एंटी फंगल क्रीम लगा ले.

फंगल संक्रमण उपचार

  • इसका सही तरीके से इलाज के लिए प्रभावित स्थान की नियमित साफ-सफाई रखें और जहाँ तक संभव हो उस जगह को सूखा रखें.
  • और उस जगह पर टैल्कम पाउडर भूल कर भी न लगाएं, अक्सर देखा जाता है घरों में इस तरह के रोगों में पाउडर लगा लेते हैं.
  • अपने शरीर की चमड़ी को नमी, पसीने और गर्म वातावरण से बचा कर रखें.
  • Save From Moistureबेहद कसे हुए बस्तर जैसे के नाइलॉन, टाइट जीन्स, पॉलिस्टर आदि से बने कपड़े और खासतौर पर अंडरगारमेंट नहीं पहनें.
  • अच्छी तरह से नहाएं, और नहाने के पानी में कुछ बूँदें एंटीसेप्टिक की ज़रूर मिला लें, जैसे के Dittol.
  • स्किन फंगल इंफेक्शन हो जाने पर साबुन से नहाना बिलकुल बंद कर दें, चाहे केसा भी साबुन हो वो आपको नुक्सान ही पहुंचाएगा. इसके लिए आप मुल्तानी मिटटी से नहाएं या बेसन का इस्तेमाल करें इससे आपकी त्वचा भी सुन्दर बनी रहेगी और ये किसी भी महंगे साबुन से कहीं ज़्यादा बेहतर है.
  • एलोवेरा से आप हर तरह का फंगल इन्फेक्शन सही कर सकते हैं, इसके लिए एलोवेरा को तोड़कर सीधे दाद, खाज, खुजली और स्किन फंगल इन्फेक्शन पे लगा लें, इससे ठंडक भी मिलेगी। बेहतर रिजल्ट के लिए इसको रात में लगाएं.
  • एलोवेरा का रोज़ाना नियमित रूप से सेवन करने और उस प्रभावित जगह पर लगाने से दाद और खुजली में बहुत जल्द आराम मिलता है.

HealthTipsInHindi is now Officially in English, Go to Viral Home Remedies For Latest Health Tips , Remedies and Treatments in English