गर्भावस्था में क्या न खाएं – Garbhavasta Me Kya Na Khayen

गर्भावस्था में क्या न खाएं :- गर्भावस्था में सही खान पान महिला और बच्चे को स्वस्थ बनाये रखता है. कई बार तो ऐसा होता ही लड़कियां काम उम्र में ही माँ बन जाती है लेकिन समस्या उम्र से नहीं बल्कि माँ बनने से है. कई तो ऐसा होता है कि महिलाओं को यह पता नहीं होता है कि गर्भावस्था में क्या न खाएं, गर्भावस्था के दौरान किन फलों और सब्जियों का सेवन करना चाहिए.

गर्भावती महिला

लेकिन गर्भावस्ता में सही खान-पान की जानकारी होना बहुत ही जरूरी होता है. इस अवस्था में महिलयों के द्वारा जो खाना खाया जाता है वो सीधे ही होने वाली संतान के स्वस्थ पर असर करता है. गर्भावस्था में सेहतमंद रहने के लिए उचित आहार लेना बेहद जरूरी होता है. सही आहार से महिला का स्वास्थ्य तो अच्छा रहता ही है.

साथ ही साथ गर्भस्थ्य शिशु का भी शारीरिक और मानसिक विकास सही तरीके से होता है. गर्भावस्था में क्या खाए जाए से जरूरी यह जानना है कि क्या न खाया जाए। घर-परिवार की बुजुर्ग महिलाएं अपने अनुभव के आधार पर यह राय देती रहती हैं. गर्भावस्था में कौन सी सब्जियों और फलों से परहेज करना चाहिए उन्हें जाने के लिए अगले पर पर पढ़ें.

गर्भवती महिलाओं को नही खाना चाहिए अंगूर 

जैसा कि आप लोगो को पता होगा कि गर्भवती महिलाओं के लिए फलों और सब्जियों का सेवन कितना जरूरी है. कुछ फल ऐसे है जिन्हे खाना गर्भवती महिलाओं के हानिकारक हो सकता है. गर्भवती महिलाओं को आखिर के 3 महीनों में अंगूर का सेवन नहीं करना चाहिए क्योंकि अंगूर में गर्मी बहुत होती है अर्थात अंगूर की तासीर गर्म होती है. गर्भावस्था में क्या न खाएं ये जानने के लिए पढ़ते रहे.

गर्भावती महिलाओं को नही खाना चाहिए अंगूर 
गर्भावती महिलाओं को नही खाना चाहिए अंगूर

इसीलिए डॉक्टर अंगूर को खाने से मना करते हैं और गर्भावस्था में क्या न खाएं ये जाने. क्योंकि यदि आप अंगूर खाते हैं तो आपके शरीर में गर्मी उत्पन्न होते जैसे प्रसव समय से पहले हो सकता है इसीलिए जितना हो सके अंगूर का सेवन कम से कम सबके 3 महीने पहले तक बिल्कुल ना करें.

पपीता भी एक ऐसा है कि गर्भावस्था के दौरान नहीं खाना चाहिए. पपीते का सेवन करने से भी गर्भ अवस्था में प्रथक पहले होने की संभावना होती है पपीता गर्भाशय के संकुचन को चालु कर देता है जिस से गर्भ ठहर सा नहीं है लेकिन ऐसा नहीं पपीता का सेवन नहीं किया जा सकता.

गर्भावस्था में क्या न खाएं – महिलाओं को गर्भावस्था के दौरान भूलकर न खाएं अनानास

गर्भावस्था के तीसरे माह में और प्रसव के तीन माह बाद पपीते का सेवन कर सकते हैं. लेकिन पपीता पका हुआ होना चाहिए क्योंकि पपीते के भीतर विटामिन सी होता है और भी कई पौष्टिक तत्व होते हैं जो कि पपीते के भीतर मौजूद होते हैं और इसे खाने से गर्भावस्था के शुरुआती महीनों में कब्ज गैस, एसिडिटी होने से रोकता है.

अनानास एक बहुत ही स्वादिष्ट फल है और बहुत लाभदायक भी है. लेकिन गर्भवती महिलाओं के लिए अनानास का सेवन हानिकारक हो सकता है अनानास का सेवन करने गर्भवती महिला के शरीर में गरमी हो जाती है जो कि महिला के गर्भ में नरमी पैदा करता है जिससे कारण नियमित रूप से प्रसव नहीं होता है.

समय पर प्रसव न होने कारण भी बन सकती है. शुरुआत के 3 महीने से ही अनानास का सेवन पूर्णता बंद कर दें. यदि आप खुद का और अपनी होने वाली संतान को स्वस्थ और तंदुरुस्त बनाना चाहती है. फलों के साथ-साथ गर्भवती महिला को फलों के साथ-साथ सब्जियों कुछ ऐसी सब्जियां है जिनका सेवन भूलकर भी नहीं करना चाहिए.

खान-पान में लापरवाही हो सकती है गर्भवती महिलाओं के लिए जानलेवा 

जब भी आप सब्जी खरीदने जाएं या सब्जी खाएं तो बस एक बात याद रखें कि सब्जियां अच्छी तरह से साफ होना चाहिए और धुली हुई होना चाहिए. सब्जियों को धोकर पकाना चाहिए क्योंकि आप यदि ऐसा नहीं करते है तो इसके बहुत बुरे परिणाम होएत है. क्योंकि यह सिर्फ उनके लिए ही नहीं बल्कि उनके आने वाली संतान के लिए भी बहुत जरुरी होता है.

खान-पान में लापरवाही हो सकती है गर्भावती महिलाओं के लिए जानलेवा 
खान-पान में लापरवाही हो सकती है गर्भावती महिलाओं के लिए जानलेवा

गर्भावस्था के दौरान थोड़ी सी भी लापरवाही मां और बच्चे दोनों के लिए बहुत हानिकारक और जानलेवा हो सकती है इसलिए आपको इन 4 वस्तुओं का सेवन नहीं करना चाहिए. फल और सब्जियों के साथ साथ कुछ ऐसे पदार्थ भी हैं जिन्हें आप गर्भावस्था के दौरान नहीं खा सकते जैसे अंकुरित पीस और अनाज अर्थात कच्चे बीच का सेवन नहीं करना चाहिए.

क्योंकि इनमें हानिकारक बैक्टीरिया होते हैं जिससे फूड पॉइजनिंग होती है जिसके कारण मीटिंग पर डायरिया हो सकता है और यदि फिर भी आप इनका सेवन करना चाहते हैं तो इन्हें साफ पानी में अच्छी तरह से धो लें मारने खाने से पहले अपने हाथों को भी धो लेना चाहिए.

अल्कोहल गर्भवती महिलाओं के लिए है ज़हर

गर्भावस्था के दौरान चाय तथा कॉफी जैसे एनर्जी ड्रिंक का सेवन नहीं करना चाहिए खासतौर पर प्रेगनेंसी के 3 माह पहले तक तो बिल्कुल भी नहीं करना चाहिए. यदि आप मांसाहारी हैं कच्चे और आधे पके अंडे का सेवन नहीं करना चाहिए. क्योंकि इससे साल्मोनेला इंफेक्शन होता है जिस से उल्टियां और डायरिया हो सकता है.

अल्कोहल ड्रिंक गर्भावती महिलाओं के है ज़हर
अल्कोहल ड्रिंक गर्भावती महिलाओं के है ज़हर

कुछ विशेष प्रकार की मछलियां भी होती हैं जिन्हें खाने से आपको गर्भावस्था के दौरान नुकसान हो सकता है/ एवं गर्भावस्था के दौरान किसी भी प्रकार धूम्रपान और अल्कोहल का प्रयोग नहीं करना चाहिए क्योंकि यदि आप इस अल्कोहल या धूम्रपान करती हैं तो इससे गर्भपात होने का खतरा काफी हद तक बढ़ जाता है. और घर में मौजूद शिशु का भी विकास बाधित हो सकता है.

HealthTipsInHindi is now Officially in English, Go to Viral Home Remedies For Latest Health Tips , Remedies and Treatments in English