गर्मियों में पसीने की समस्या

गर्मियों में पसीने की समस्या – गर्मियों के मौसम में पसीना आना वैसे तो आपके शरीर के लिए सेहतमंद है लेकिन जिन लोगों को बहुत अधिक पसीना आता है उन्हें डीहाइड्रेशन या नमक की कमी जैसी कई दिक्कतें हो सकती हैं।बहुत अधिक पसीना आना वैसे तो कोई बीमारी नहीं है लेकिन स्वेट ग्लैंड में गड़बड़ी, स्ट्रेस, हार्मोनल बदलाव, मसालेदार डाइट, अधिक दवाएं, मौसम और मोटापे जैसे कारण हो सकते हैं। गर्मियों में पसीने की समस्या काफी लोग परेशान हो जाते है ज्यादा  पसीना आने की स्थिति को हाइपरहाइड्रोसिस भी कहते हैं।

बगल की बदबू का इलाज
बगल की बदबू का इलाज

गर्मियों में पसीना आना देखा जाये तो एक समस्या है ,जिससे इन्फेक्शन जैसी बीमारी भी हो सकती है। जिनके हाथो में पसीना आता है ,उतना पसीना उनके पैरों में भी आता है। गर्मिया जैसे ही आती ही तो सभी को एक समस्या का सामना करना पड़ता है और वो है पसीने की समस्या .इसके कई कारण हो सकते हैं ,आईये जानते हैं इसके कारण और सुझाब।

गर्मियों में पसीने की समस्या कैसे दूर करें

जब गर्मी बहुत बढ़ जाती है (चाहे वह बाहरी कारणों से हो या खान-पान की वजह से), तो शरीर को ठंडा करने के लिए पसीनो की ग्रंथियों से पसीने की बूंदें निकलना शुरू हो जाती हैं। जब पसीना हवा में सूखता है तो ठंडक पैदा होती है और हमारे शरीर का तापमान कम हो जाता है।चिंता ,तनाब, डर आदि में भी पसीना निकलता है।गर्मियों में पसीने की समस्या को आसानी से दूर कर सकते है.

सीना इन्फेक्शन का कारण भी बन जाता है वो इस लिए के जब पसीना बैक्टीरिया के संपर्क में आता है तो पसीने से दुर्गन्ध आने लगती है और इन्फेक्शन का कारण बन जाता है।हमारे शरीर में तापमान की मात्रा ज़्यादा होने की वजह से भी पसीना आने लगता है। पेरो में पसीना जूतों के कारण भी आता है जिससे दुर्गन्ध आने लगती है.

* हाइपरहाइड्रोसिस के कारण: हथेलियों और तलवों में अधिक पसीना आने को पालमोप्लोंटर हाइपरहाइड्रोसिस कहा जाता है। गर्म मौसम, अधिक शारीरिक श्रम, भावनात्मक समस्याओं, हार्मोनल बदलाव, मेनोपॉज, डायबिटीज, हाइपरथायरॉइड, मोटापा, निकोटीन, कैफीन व तले और मसालेदार भोजन का सेवन करना हाइपरहाइड्रोसिस की समस्या को और बढ़ावा देता है। बिना किसी व्यायाम और काम के ज़्यादा मात्रा में पसीना आना हार्टसे सम्भंदित बीमारियों की पहली निशानी हो सकती है। ध्यार रहे कि स्ट्राबेरी, अंगूर और बादाम आदि में सिलिकॉन अधिक मात्रा में होता है जिससे पसीना अधिक बनता है। कोशिश करें कि इन्हें कम ही लें।

गर्मियों में क्यों है पसीना आना ज़रूरी ?

पसीना आने से गर्मियों में होने वाले बुखार से बचा जा सकता है। गर्मियों में घबराहट से बचने के लिए पसीना आना जरूरी है। पसीना आने से शरीर से विषाक्त पदार्थ बाहर निकलते हैं । अगर ऐसा न हो तो शरीर में कई विकार पैदा हो जाते हैं जिससे आप बीमार हो सकते हैं। पसीना आना कई मामलों में शरीर के लिए फायदेमंद है। पसीना आने से बॉडी क्लीन रहती है और सारे हार्मफुल टॉक्सिंस बाहर निकल जाते हैं जिससे आप कई बीमारियों से बचे रहते है.देखा जाये तो पसीना आना बहूत ज़रूरी है.

तन की बदबू
तन की बदबू

पसीना आना बहुत जरूरी है क्योंकि शरीर गर्मी पैदा करता रहता है. हिलने डुलने से भी शरीर गर्म होता है. अगर शरीर को किसी काम में एक कैलोरी ऊर्जा लगानी होती है तो इस एक कैलोरी को खर्चने के लिए शरीर की कुल चार कैलरी खर्च होती हैं. तीन कैलोरी गर्मी बनकर शरीर से निकल जाती हैं.अगर शरीर ने इस गर्मी को किसी तरह बाहर नहीं निकाला तो वह अंदर से पकने लगेगा. इसलिए पसीने की ग्रंथियां सक्रिय हो जाती हैं. हमारे शरीर में 20 से लेकर 30 लाख ग्रंथियां हैं. यह खून की नसों से पानी सोखती हैं और इन्हें त्वचा की ऊपरी सतह तक पहुंचाती हैं.

गर्मियों में पसीने की समस्या  से निपटने के बेहतर तरीके है. सोते वक्त भी हमारे शरीर से पसीना निकलता रहता है. एक रात में शरीर करीब आधा लीटर पानी खोता है. सौना में, कसरत करते हुए तो शरीर से और पसीना निकलता है. दिन में शरीर 10 लीटर पानी तक खो सकता है. पसीने में 99 प्रतिशत पानी होता है. बाकी नमक और चर्बी होती है. डॉ. रापरिष के मुताबिक, पसीने में वैसे कोई गंध नहीं होती. पसीने की बदबू बैक्टीरिया से पैदा होती है. पसीने के साथ चर्बी निकलती है, बैक्टीरिया इस चर्बी को डीकंपोज यानी अपघटित करते हैं और इससे ब्यूटेरिक एसिड बनता है. इससे आती है पसीने में बदबू और जब आप कई दिनों तक नहाते नहीं हैं या अपने कपड़े नहीं धोते तो यह बदबू फैलने लगती है.

कैसे करें पसीने की बदबू ख़त्म ?

गर्मियों में पसीने की समस्या  को दूर करने के आप बेकिंग सोडा और निम्बू के रस को बराबर मात्रा में मिलाकर पेस्ट तैयार करें। अब इसे अपने अण्डर आर्म्स अन्य बदबू स्थान पर लगा लें। इसे पांच मिनट के लिए लगा रहने दें और फिर पानी से धो लें, इसे मलें नहीं। अब इसके बाद नहा लें। कुछ दिनों तक इस उपचार को रोज करें।(आप निम्बू के रस की जगह कॉर्नस्टार्च को मिलाकर भी इस्तेमाल कर सकते हैं)
रुई को सेब के सिरके में भिगोकर अपने अंडर आर्म्स में रगड़ें। 10-15 मिनट बाद नहा लें। इस उपाय को हर रोज दो बाद करें सुबह और शाम।बाथ टब में गुनगुने पानी डालकरएक कप सेब का सिरका डालें। अब इसमें 10 मिनट के लिए बैठ जाएँ।

पसीने की बदबू कैसे हटाये
पसीने की बदबू कैसे हटाये

आप दो चम्मच सेब के सिरके को एक गिलास पानी में घोलकर पी भी सकते हैं.एक फ्रेश निम्बू को दो भागों में काट लें। हर एक टुकड़े को अपने अंडर आर्म्स में रगड़ें। यह ध्यान रखें कि रस आपकी स्किन पर निकलता रहे। अब इसे सूखने दें और भिर नहा लें। इस उपाय को रोज तब तक अपनाएं जब तक कि बदबू खत्म न हो जाये।यदि आपकी स्किन सेंसिटिव है तो निम्बू के रस को पानी में डालें और इसमें रुई भिगोकर अपने अंडर आर्म्स में रगड़ें।

पसीना न आना बन सकता है समस्या :जानिए कैसे

गर्मियों में पसीने की समस्या से भी फायदे है. अगर आपको बिल्कुल भी पसीना नहीं आता हैं इतना ही नही आप जब धूप में बाहर जाते हैं, तो दुसरों के मुकाबले आपके शरीर पर बहुत कम पसीना आता है तो हो सकता है आपके शरीर में मौजूद पॉर्स बन्द हो गए हो। इतना ही नहीं इसके कारण आपके शरीर में मौजूद गर्मी भी बाहर नहीं आ सकेगी। क्योकि जिन लोगों को पसीना आता हैं उनके शरीर में मौजूद गर्मी पसीने के साथ बाहर आ जाती हैं। जिससे उनके शरीर का तापमान भी सही बना रहता है।

अक्सर लोंगो को लगता है की पसीना आने के कारण हमारे शरीर में बैक्टीरिया बनने लगते है जिसके कारण हमे अनेक प्रकार के रोग हो जाते है लेकिन ऐसा नही हैं, अगर आपके शरीर में पसीना आएगा तो आपके शरीर की रोग प्रतिरोधक क्षमता भी सही प्रकार से कार्य कर सकेगी और आपका शरीर बीमारियों से बचा रहेगा क्योंकि पसीने के माध्यम से आपके शरीर के सभी हानिकारक तत्व बाहर निकल जाएंगे

अगर आपको पसीना नहीं आता हैं तो आपका शरीर विभिन्न प्रकार के रोगों से ग्रस्त हो सकता हैं। क्योंकि पसीना हमारे शरीर को रोगो से दूर रखने में भी मदद करता हैं। इतना ही नहीं जो लोग अपनी त्वचा को चमकदार बनाने के लिए मार्केट मे मौजूद कई तरह की क्रिमो का प्रयोग करते हैं वो केवल अपने शरीर में पसीना ला कर भी अपनी त्वचा के चमकदार और स्वस्थ बना सकते हैं। इतना ही नहीं इससे आपकी त्वचा लंबे समय तक जंवा भी बनी रहेगी।

जिन लोगो को पसीना नहीं आता है उनके घाव भी जल्दी नहीं भरते हैं हमारे शरीर में कुछ ऐसे तत्व भी मौजूद होते हैं जो की हमारे शरीर में लगने वाले घाव को कम कर देते हैं लेकिन उन तत्वों का सही से काम करने के लिए यह जरुरी है कि हमारे शरीर में पसीना आए और हमारे शरीर में मौजूद विषैले पदार्थ बाहर निकल सके।

पसीना कंट्रोल करने के उपाए :

पसीने की समस्या होने पर साफ़ सफाई का ख्याल रखें जिससे पसीना रोकने में बहुत मदद मिलती है ,और इससे पर्सनल हाइजीन होती है और आपकी त्‍वचा भी संक्रमण और बीमारी से बचती है. ठीक प्रकार से नहाएं और गर्मियों के मौसम में रोजाना दो बार नहाएं।पसीनो को रोकने के लिए डाइट का पूरा पूरा ख्याल रखें टमाटर का जूस दिन में एक बार लेने से पसीने की समस्या से राहत मिलती है ,पसीना जिनको ज्यादा आता है उनको कुछ तेज पत्ते पानी में अच्छी तरह से उबाल ले और अच्छे से उबाल आ जाने पर इस पानी को ठंडा होने के बाद यह पानी उन जगहों पर लगाएं जिस जगह से ज्यादा पसीना आता है.शरीर में जिन हिस्सों में ज्यादा पसीना आता है उन्हें कच्चे आलू की स्लाइस को काटकर उन हिस्सों पर मलें ऐसा करने पर आप को पसीना आना कम हो जाएगा. गर्मियों में पसीने की समस्या दूर हो जाएगी

पसीने की बदबू दूर करने के तरीके
पसीने की बदबू दूर करने के तरीके

जिन लोगो को पसीना ज़्यदा आता है उन लोगो को चाय,कोफी जैसी चीज़े छोड़ देनी चाहीये ,इनके अलावा ग्रीन टि का इस्तेमाल करे। ग्रीन टि पीने से शरीर से पसीना आना न के बराबर हो जायेगा। गर्मियों में अधिक पानी पीने से शरीर से आने वाली दुर्गन्ध काम होजाती है.जहां तक हो सके, गर्मियों में कड़ी धूप से बचें लेकिन कामकाजी पुरुष एवं महिलाओं के लिये यह थोड़ा मुश्किल है फिर भी धूप से बचने के लिये छतरी का प्रयोग कर सकते हैं। इससे न तो धूप की किरणें आप के शरीर को स्पर्श कर पाएंगी और न ही अधिक पसीना आएगा. गर्मियों में पसीने की समस्या से छुटकारा मिल जायेगा.

वीटग्रास एक औषदीये पौधा है जिसे हिंदी में गेहू का जवार कहते है ,जिससे मानव शरीर को कई फायदे होते हैं। यह पौधे रस विटामिन और खनिज से भरपूर है जो आपके शरीर को शांत करने में मदद करता है.अधिक पसीने से रहत के लिए हर रोज़ एक गिलास वीटग्रास रास पिए इसे जल्द ही आराम मिलेगा.

HealthTipsInHindi is now Officially in English, Go to Viral Home Remedies For Latest Health Tips , Remedies and Treatments in English