काली मिर्च के ये फायदे जानकर हैरान रह जायेंगे आप – Kali Mirch Ke Fayde Hindi Me

काली मिर्च के फायदे: काली मिर्च को मसलों में सर्वश्रेष्ठ माना गया है इसलिए लिए किंग ऑफ़ स्पाइस और ब्लैक पेपर के नाम से जाना जाता है और इसे गरम मसाले के श्रेणी में रखा गया है काली का सेवन हम हम अपने भोजन के स्वाद को बढ़ने के लिए करते है. लेकिन ये सिर्फ मसालें के रूप में ही नही एक दवा के रूप में भी इस्तेमाल की जाती है. काली शरीर में होने वाले कई रोगों को दूर करने में सहायक होती है.

काली मिर्च के लाभ
काली मिर्च के लाभ

आयुर्वेद में कालीमिर्च को सभी तरह के बैक्टीरिया वगैरह को ख़त्म करने वाली औषधि मन है। काली मिर्च के गुण पोषण को बढ़ावा देते है ,जिससे हमारे शरीर में कई तरह की मदद मिलती है। इससे त्वचा को भी बेहद मदद मिलती है.काली मिर्च के फायदे कई सारे हैं. इसमें केल्शियम , आइरन, फास्फोरस, कैरोटिन, थाईमन और रिथोफ्लेब्न जैसे पोष्टिक तत्व होते है। जो हमारे शरीर को सेहतमंद रखने में फायदेमंद होते हैं.

काली मिर्च के फायदे और नुकसान

दांतो में अगर पयेरिया हो जये तो काली मिर्च को नमक के साथ मिला कर दांतो पर लगाए ,इससे आपको जल्द ही राहत मिलेगी. अगर आपका ब्लड प्रेशर लौ रहता है तो आप दिन में 2 या 3 बार 5 कालीमिर्च के दानो के साथ 21 किशमिश खाएं इससे आपको जल्द रहत मिलेगी और ब्लड प्रेशर नार्मल रहेगा। मलेरिआ होने पर कालीमिर्च के पाउडर के साथ तुलसी का रस मिलाकर पीने से मलेरिआ में आराम मिलता है।

अगर कब्ज हो जाये तो काली मिर्च के चार-पांच साबुत दाने दूध के साथ रात को लेने से कब्ज में रहत मिलती है। स्किन पर कही भी फुंसी होने पर कालीमिर्च पानी के साथ पत्थर पर घिसें और लगा लें ,उससे फुंसी बेठ जाएगी और जड़ से खत्म हो जयेगी। रोज़ाना एक चमच घी और 8 काली मिर्च और शकर को मिला कर चाटने से यादशत तेज़ होती है और दिमाग की कम्जोरी दूर होती है

चुटकी भर पीसी हुई काली मिर्च आधा चमच घी के साथ मिला कर खाना खाने के बाद चाटने से खांसी में आराम मिलता है |अगर पेट में कीड़े की समस्या हो तो थोड़ी सी काली मिर्च के पाउडर को एक गिलास छाछ में घोलकर पी लें।इससे पेट के कीड़े मर जायँगे ,दूसरा तरीका यह है किशमिश के साथ काली मिर्च दिन में तीन बारी खाएं इससे भी फायदा होगा।

काली मिर्च और दूध

कालीमिर्च के इस्तेमाल से शरीर में सेरोटोनिन हार्मोन बनता है, सेरोटोनिन की मात्रा बढ़ने से डिप्रेशन में भी फायदा मिलता है. इसलिए अपने रोज़ के खाने में काली मिर्च का इस्तेमाल करें।माइग्रेन की परेशानी होने पर रोज़ सुबह सेब पर कालीमिर्च का पाउडर लगा कर खाएं इसे आपको बेहद मिलेगा। अगर आपके चेहरे पर कील, मुहासे हैं तो २० काली मिर्च, गुलाबजल में पीस कर रत को चेहरे पे लगाए और सुबह पानी से मुँह धो लें इससे कील, मुहासे ठीक हो जायँगे।

पेट दर्द होने पर 10 काली मिर्च पीस कर एक गिलास दूध में उबाल कर चीनी मिला कर पीने दर्द ख़तम हो जायेगा.2 ग्राम काली मिर्च का पाउडर, गुड़ के साथ मिलाकर खाने से ज़ुखाम में रहत मिलती है.कालीमिर्च को पीसकर दही में मिलाकर गुड़ के साथ सेवन करने से नाक से खून निकलना बंद हो जाता है।

आँखों की पलकों के किनारे निकलने वाली गुहेरी (छोटी फुंसी ) पर काली मिर्च को पानी में पीसकर लैप लगाने से बेहद फायदा मिलता है। नीबू और अदरक के 5-5 ग्राम रस में 1 ग्राम काली मिर्च का पाउडर मिलाकर सेवन करने से पेट दर्द में आराम मिलता है।

काली मिर्च के फायदे पेट के लिए 

जुकाम होने पर पिसी काली मिर्च मिलाकर गर्म दूध पीएं। काली मिर्च को प्याज और नमक के साथ पीसकर सिर के बालों में लगाने से दाद, खुजली की वजह से झड़ने वाले बाल गिरना काम हो जाते है। काली मिर्च के नुकसान या साइड इफेक्ट्स सिर्फ इसकी गर्म तासीर से ही हो सकते हैं इसलिए गर्मियों में इसको कम ही लें |

काली मिर्च के औषधि गुण
काली मिर्च के औषधि गुण

काली मिर्च के फायदे है बहुत, इससे पेट दर्द, मसूड़ों का दर्द, कब्ज गैस एसिडिटी, कैंसर, भूख बढ़ाने जैसी कई समस्यों को दूर किया जाता है. काली मिर्च आयुर्वेद में बहुत महत्वपूर्ण मानी गई है. क्योंकि काली मिर्च से कई बीमारियों को ठीक किया जा सकता है.

तो आप घर पर भी काली मिर्च का उपयोग मसाले या स्वाद बढ़ने के लिए बल्कि अपने रोगों को दूर करने में कर सकते है. कालीमिर्च के इस्तेमाल से शरीर में सेरोटोनिन हार्मोन बनता है, जो अच्छे मूड के लिए जिम्मेदार होता है. जिस से आपको दिमाग को काफी आराम मिलता है.

काली मिर्च के फायदे बहुत सारे है जैसे यदि आपकी पाचन शक्ति कम हो गई हो या फिर आप अपने द्वारा खाएं गए भोजन को ठीक तरह से पचा नहीं पा रहे है. तो आप काली मिर्च, काला नमक भुना हुआ जीरा और अज्वैन को पीस कर लसी या निम्बू पानी में डाल कर इसका सेवन करें इससे आपकी पाचन क्रिया को ठीक कर सकते है.

क्योंकि काली मिर्च में केल्शियम, आइरन, फास्फोरस, कैरोटिन, थाईमन और रिथोफ्लेब्न और कई सारे पौष्टिक तत्व होते है.जो आपके शरीर को तंदुरुस्त बनाने में सहायक होते है. फ़ूड एन्ड स्पाइस रिसर्च यूनिवर्सिटी के अनुसार की गयी स्टडी में बताया गया है कि काली मिर्च में बायो-एन्हंस्र नाम का रसायन मौजूद होता है जो हमारे द्वारा ली जाने वाली किसी भी दवाई के असर को बढ़ा देती है.

और इसका इस्तेमाल करने से आपके द्वारा ली जाने वाली दवाओं के असर को बढ़ने के साथ साथ उनके द्वारा होने वाले असर को लम्बे समय तक बनाये रखती है.पेट में गैस या एसिडिटी की समस्या होने पर आप तुंरत नींबू में काला नमक और काली मिर्च का पाउडर या 2 दाने मिलाकर इसका रस चूसें. इसे पेट दर्द और एसिडिटी ख़त्म हो जाएगी.यदि पेट में कीड़े की समस्या हो तो थोड़ी सी मात्रा में काली मिर्च के पाउडर को एक गिलास छाछ में घोलकर पी लें. इस आप के पेट से जुडी समस्या दूर हो जाएगी.

काली मिर्च के फायदे बताएं
काली मिर्च के फायदे बताएं

कैंसर से बचाव के लिए और महिलाओं के लिए कालीमिर्च का सेवन बहुत लाभकारी होता है. कालीमिर्च में विटामिन सी, विटामिन ए, फ्लैवोनॉयड्स, कारोटेन्स और अन्य एंटी -ऑक्सीडेंट आदि तत्व भी पाए जाते है कालीमिर्च ब्रेस्ट कैंसर को रोकने में सहायक है. काली मिर्च के फायदे के बारे में कई तरह के तथ्य दिए गए है.

यदि आपके दातों में दर्द हो रहा है या फिर आपके मसूड़ों में दर्द और सूजन आ रही है तो आप काली मिर्च के मिश्रण का इस्तेमाल करें काली मिर्च के इस मिश्रण को बनाने के लिए और मसूड़ों की कमजोरी दूर करने के लिए आप काली मिर्च, माज़ुफ्ल, सेंदा नमक तीनो को बराबर मात्रा में बारीक पीस कर चूर्ण बना लें इस चूर्ण को अपने हथेली पे रख के तीन बूंद सरसों के तेल में मिला कर मसूड़ों और दांतों पर लगा ले और अपने ऊँगली से इसे मुँह के अंदर पूरी तरह से लगा लें और इसे अपने दातों पर लगभग आधे घंटे तक लगा रहने दे. इससे आपके मसूड़ों कि सूजन और दातों का दर्द दूर हो जायेगा.

वैसे तो मसालों को खाने से शरीर में गर्मी बढ़ती है लेकिन काली मिर्च को खाने से शरीर की गर्मी दूर होती है जिससे शरीर के साथ साथ दिमाग की थकावट भी दूर हो जाती है और शरीर को काफी आराम मिलता है. इसका उपयोग करने के लिए आप एक चमच घी और 8 काली मिर्च और शकर को मिला कर रोजाना चाटने से आपके दिमाग को ठंडक मिलेगी और आपकी यद्दाश भी बढ़ जाएगी.

जिससे आप को काफी लाभ होगा.यदि आप 15 काली मिर्चे , 2 बादाम की गिरीयां , 5 मुनकें, 2 छोटी इलाइची, एक गुलाब का फूल, आधा चमच खसखस को रात को एक बर्तन में डाल कर भिगो दे और सुबह को रगड़ कर 250 ग्राम दूध में मिला कर हर रोज लगातार कुछ महीने पीने से दिमाग की थकावट दूर हो जाएगी.

काली मिर्च के टोटके इन हिंदी

यदि आपको मुँह में छाले, खांसी, और गले की कसावट जैसे समस्या हो रही है तो दस काली मिर्चे चबा कर गरम पानी पी लीजये. ऐसा यदि दिन में तीन से चार बार करते है तो आपकी खांसी ठीक हो जाएगी और गले में भी आराम रहेगा. और चुटकी भर पीसी हुई काली मिर्च को आधा चमच घी के  साथ मिला कर खाना खाने के बाद चाटने से मुँह के छाले और खांसी भी ठीक हो जाती है.

बवासीर की समस्या को दूर करने के लिए आप जीरा, चीनी और काली मिर्च के दानों को पीसकर चूरन बना लें और इस चूरन को सुबह और शाम तीन बारी खाएं. इससे बवासीर की परेशानी दूर हो जाएगी.

काली मिर्च के फायदे और ज्यादा लाभ के लिए इसे खाना बहुत ही लाभदायक है. यह आपके पड़े हुए हैं रक्तचाप को भी नियंत्रित करती है यानी ब्लड प्रेशर को कंट्रोल करने में कालीमिर्च आपके लिए बहुत लाभदायक है क्योंकि यह शरीर की थकावट को दूर करती है यदि आपका भी ब्लड प्रेशर बढ़ गया है तो आप एक छोटी चम्मच काली मिर्च का पाउडर लें और इसे आगे क्लास पानी में मिलाकर रोजाना पीने तो आपका ब्लड प्रेशर बढ़ेगा नहीं और आपका रक्तचाप भी नियंत्रित हो जाएगा और इससे आपको डायबिटीज की समस्या भी नहीं रहेगी.

काली मिर्च के फायदे और नुकसान 

एक कहावत है की -बेहद अच्छी चीज़ ज़्यादा इस्तेमाल करने से नुक्सान देने लगती है ,उसी तरह कालीमिर्च का ज़रूरत से ज़्यादा इस्तेमाल करना नुकसानदायक हो सकता है . इसकी बहुत सी वजह हैं, एक तरफ कालीमिर्च आपकी सेहत और पोषण के लिए करगाज़ है तो वहीँ दूसरी तरफ यह नुकसान भी पहुंचा सकती है। आइये जानते है काली मिर्च के नुकसान।

. कालीमिर्च से पेट की बदहज़मी, गैस वगैरह तो ठीक हो जाती है पर इसके ज़्यादा इस्तेमाल से आपके पेट में जलन होना शुरू हो जयेगी इसलय इसका इस्तेमाल कम करना चाहिए।

.कालीमिर्च के यदि आपके शरीर या त्वचा पर लग जाती है, तो बहुत ज्यादा जलन होती है लेकिन यदि ये कालीमिर्च आँखों में लग जाए तो आपकी हालत कर देगी क्योंकि कालीमिर्च ज्यादा तीखी तो नही होती, पर बहुत ज्यादा नुकसान करती है।

HealthTipsInHindi is now Officially in English, Go to Viral Home Remedies For Latest Health Tips , Remedies and Treatments in English