महावारी लाने के उपाय | अनियमित मासिक धर्म के घरेलू उपाय

आज आपको इस पोस्ट में हम महिलाओं में अनियमित मासिक धर्म, और समय पर महावारी लाने के उपाय पर बात करेंगे| अगर देखा जाय तो आजकल की भाग दौड़ की ज़िंदगी में ये एक आम समस्या बनकर रह गयी है| खासकर ये नयी उम्र की लड़कियों में ज्यादा देखने को मिल रहा है| गाँव की अपेक्षा शहर में रहने वाली युवतियों में ये समस्या ज्यादा पायी जाती है| चलिए अब जानते हैं कि अनियमित मासिक धर्म क्या होता है और इससे कैसे बचें|

अनियमित मासिक धर्म क्या है? | Aniyamit Masik Dharm

अनियमित मासिक धर्म एक बहुत परेशानी वाली समस्या है| अगर माहवारी निश्चित समय पर नहीं होती तो इसे ही अनियमित मासिक धर्म कहते हैं| कभी कभी या तो जल्दी हो जाती है या फिर देर से होने लगती है| महिलाओं में मासिक धर्म आने का समय गड़बड़ हो जाता है, तो ऐसे में उनको बहुत परेशानी उठाना पढ़ती है|

माहवारी खुलकर आने के घरेलू उपाय
माहवारी खुलकर आने के घरेलू उपाय

खासकर नौकरी करने वाली युवतियों और महिलाओं को, बड़ी दिक्कत का सामना करना पड़ता है| आधुनिक जीवन के इस दौर में आजकल ये एक आम समस्या हो गयी है| महिलाओं या फिर नयी उम्र की लड़कियों में अनियमित मासिक धर्म उनकी गलत दिनचर्या और गलत खान-पान की आदतों की वजह से होता है|

देर रात तक जागना या फिर सुबह देर तक सोने अथवा बाज़ार में, अधिक मात्रा में जंक फ़ूड का सेवन करने से भी ये हो सकता है| मासिक चक्र अनियमित होने की वजह से महिलाओं के शरीर में अन्य बीमारियाँ पनपने जैसे के जल्दी थकान होना, चक्कर आना और कष्टदायक माहवारी होना जैसे रोगों से ग्रसित होने का ख़तरा बढ़ जाता है| नीचे कुछ उपाय दिए जा रहे हैं| इन पर अगर अमल किया जाय तो इस समस्या से मुक्ती मिल सकती है| और आपका मासिक धर्म सुचारु रुप से नियमित हो सकता है|

मासिक धर्म रुकने के कारण | Irregular Periods Symptoms

सबसे ज्यादा मासिक धर्म की परेशानी उन लड़कियों में या महिलाओं में अधिक होती है जो आलसी होती हैं| इसलिए इस बात का थोड़ा ध्यान रखें, अगर आपका शरीर बहुत आलसी है और आप कुछ काम नहीं करतीं सारे दिन आराम करतीं रहतीं हैं तो आज से ही यह सब त्याग दें| अपनी छमता के अनुसार घर के छोटे-मोटे कामकाज जरूर किया करें| जिससे आपका मासिक धर्म चक्र सुचारु रूप से काम करता रहे| यही कारण है कि शहर की अपेक्षा गाँव की लड़कियों में मासिक धर्म रुकने की समस्या बहुत कम या कहें तो न के बराबर पायी जाती है|

मासिक धर्म के रुक जाने का एक प्रमुख कारण यह भी है, जिनको शरीर में खून की कमी हो या फिर मैथुन दोष हो तो माहवारी का समय चूक सकता है| कभी-कभी कुछ महिलाएं, युवतियां महावारी के समय ज्यादा ठंडी चीजों का सेवन कर लेती हैं तो ये भी मासिक चक्र को अनियमित कर सकता है| ज़्यादा समय तक ठंड में रहने के कारण या ठण्ड लग जाने की वजह से भी महिलाओं का मासिक धर्म या तो अनियमित हो जाता है या फिर रुक जाता है| इसके अलावा बहुत अधिक समय तक स्वीमिंग पूल में नहाना या भीगना भी एक वजह हो सकती है|

मासिक धर्म की समस्या क्यों होती है?

मासिक धर्म कई तरह से प्रभावित हो सकता है| इसके रुकने के कुछ ये कारण हो सकते हैं, जैसे कि बहुत ज़्यादा पैदल चलना, मन में किसी प्रकार की दुःखद भावना रखना, मानसिक परेशानी और क्लेश होना, अत्यधिक शोकाकुल होना या अत्यधिक क्रोधित होना भी अनियमित मासिक धर्म का कारण बन सकता है| एक खास बात यहाँ ध्यान देने वाली यह भी है कि आप समय पर खाना खाएं, बाज़ार के फ़ास्ट फ़ूड खाने से बचें, ताली हुयी चीजों से परहेज़ करें|

मासिक धर्म के रुक जाने की पहचान कैसे करें?

जब आपका मासिक धर्म रुक जाता है, या उसमें किसी प्रकार की गड़बड़ी होती है तो आप मासिक धर्म के रूक जाने की पहचान इस तरह से कर सकती हैं| कभी-कभी मासिक धर्म रुकने के कारण, आपके गर्भाशय के हिस्से में दर्द होना शुरु हो जाता है|

अनियमित मासिक धर्म की समस्या जिसको होते है उनको भूख बहुत कम लगती है या बिलकुल भी नही लगती| पेट में कब्ज़ होना या दस्त लगने की शिकायत हो जाती है| स्तनों में दर्द होता है और उल्टी आना, जी मचलाना, सांस लेने में तकलीफ होना या घबराहट होना, दिल धड़कना इस तरह के लक्षण मासिक धर्म के रूक जाने की पहचान होते हैं|

महावारी लाने के उपाय और घरेलू नुस्खे

कभी-कभी लड़कियों के कान में तरह-तरह की आवाजें सुनाई पड़ने लगती हैं| रात में ठीक तरह से नींद भी नहीं आती| पेट में हल्का या थोड़ी थोड़ी देर में तेज़ दर्द होता रहता है| शरीर में जगह-जगह सूजन जैसी आ जाती| मानसिक तनाव होने लगता है और चिडचिडापन बढ़ जाता है| किसी से बात करने का मन नहीं होता|

मासिक धर्म चक्र अनियमित हो जाने पर हाथ पैर टूटने लगते हैं| विशेषकर कमर में दर्द बना रहता है| गले में खराश होना और आपका पूरा शरीर बेहद थका-थका सा महसूस होने लगता है| प्रसूता स्त्रियों में दूध बिल्कुल कम निकलने लगता है| यह सभी मासिक धर्म के रुकने के लक्षण होते हैं|

अनियमित माहवारी और गर्भावस्था

मासिक धर्म महिलाओं में होने वाली एक सामान्य और स्वाभाविक प्रक्रिया होती है| अगर मासिक धर्म में किसी भी प्रकार की गड़बड़ी या अनियमितता हो जाय तो महिलाओं में दूसरे रोग उत्पन्न होने की संभावना बढ़ जाती है| इसीलिए इसको कभी भी हलके में न लें| और तुरंत इसका इलाज करें|

अनियमित मासिक धर्म के होने की एक वजह यह भी होती है, अगर किसी के शरीर के भीतरी हिस्से में भी उनको किसी प्रकार का रोग हो तो भी इस वजह से भी महिलाओं में माहवारी में अनियमितता हो सकती है| अगर महिलाओं में मासिक धर्म सुचारु रुप से नहीं चलता तो उससे इनके उनके मातृत्व जीवन पर असर पड़ सकता है| और वे माँ बनने के सुख से वंचित रह जाती हैं|

अनियमित माहवारी का घरेलू इलाज

अनियमित महावारी को आप घरेलू नुस्खों द्वारा भी ठीक कर सकते हैं| इसका सबसे बड़ा फायदा ये है कि घरेलू नुस्खों (Home Remedies) के द्वारा किया गया इलाज किसी भी तरह का नुकसान (Side Effect) नहीं करता| आपके लिए कुछ घरेलू नुस्खे अनियमित माहवारी के लिए बताये जा रहे हैं| अगर आप इन्हें आजमाएंगे तो निश्चित रुप से आपकी महावारी की समस्या का इलाज हो सकता है|

  • 3 ग्राम काली मिर्ची का चूर्ण शहद के साथ चाटने से कुछ ही समय में रुके हुए मासिक धर्म को चालू कर देता है|
  • रुके हुए मासिक धर्म को चालू करने के लिए प्रतिदिन एक छोटा चम्मच दूब का रस पिया करें|
  • 2 सप्ताह तक ग्वारपाठे का रस, प्रतिदिन भूखे पेट सेवन करने से अनियमित महावारी सही हो जाती है|
  • रुकी हुयी महावारी चालू करने के लिए रोज़ कच्चे पपीते का सेवन करें, इससे मासिक धर्म खुलकर आने लगता है|
  • महिलाओं में अधिकतर Vitamin-D की कमी पाई जाती है, अपने आहार में इसको ज़रूर शामिल करें|
माहवारी जल्दी लाने के घरेलू उपचार
माहवारी जल्दी लाने के घरेलू उपचार

माहवारी खुलकर आने के घरेलू उपाय

जिन महिलाओं को खुलकर माहवारी नहीं आती उन्हें इस घरेलू नुस्खे को आजमाना चाहिए| 10 ग्राम तिल और 2 ग्राम काली मिर्च और दो छोटे पीपल ले लें| अब इन तीनों में थोड़ी शक्कर मिला लें, और इनका उबालकर अच्छी तरह काढ़ा बना लें| इस काढ़े को ठंडा हो जाने पर छानकर पियें| ऐसा सप्ताह में 2 से तीन बार करें| इस तरह का काढ़ा पीने पर आपको मासिक धर्म खुलकर आने लगता है| और अनियमित माहवारी की समस्या भी ठीक हो जाती है| महावारी से संबंधित कोई अन्य समस्या भी हो तो वह भी ठीक हो जाती है|

इर्रेगुलर पीरियड्स ट्रीटमेंट

महिलाओं में अगर इर्रेगुलर पीरियड्स की समस्या है तो इस देसी घरेलू नुस्खे द्वारा मासिक धर्म को नियमित किया जा सकता है| यहां जो देसी घरेलू नुस्खा बता रहे हैं इसके लिए आपको सोंठ, बायबिडंग, जौ और गुढ़ की जरूरत पड़ेगी| तो सबसे पहले आप 50 ग्राम सोंठ ले लें और 30 ग्राम के लगभग गुढ़ और 5 ग्राम बायविडंग तथा 5 ग्राम जौ इन सबको मिलाकर दरदरा यानी के मोटा सा कूट लें| और इसमें एक गिलास पानी मिलाकर इसको अच्छे से उबालें| और जब पानी आधा रह जाए तो इस काढ़े का ठंडा होने के बाद सेवन करें| इस दवाई से आप का रूका हुआ मासिक धर्म खुलकर आने लगता है|

बरगद, मैथी और काली मिर्च से महावारी लाने के उपाय

बरगद मतलब बड़ का पेड़ जिसकी लंबी-लंबी जटाएं लटकी रहती हैं| वह जटाएं और मैथी व कलौंजी यह तीनों चीजें एक समान मात्रा में तीन तीन ग्राम के लगभग इन सारी चीजों को मिलाकर मोटा दरदरा कूट लें| और फिर इस में दो गिलास पानी मिलाकर इसका काढ़ा बना लेना और जब पानी लगभग आधा या इससे कम रह जाए तो इस पानी को छानकर शक्कर मिला लें. और ठंडा होने के बाद इस पानी को पीने से आप की रुकी हुई महावारी खुलकर आने लगती है| और महावारी से संबंधित समस्याएं भी सही हो जाती हैं|

Desi Nuskhe For Irregular Periods In Hindi

दोस्तों आपको हमारे ब्लॉग Health Tips In Hindi की यह अनियमित मासिक धर्म पर जानकारी वाली पोस्ट कैसी लगी हमें ज़रूर बताएं| अगर आपका कोई सवाल हो तो हमारे फेसबुक पेज या नीचे कमेंट बॉक्स में ज़रूर पूछें| इस पोस्ट को अपने फेसबुक प्रोफाइल पर जरुर शेयर करें क्योंकि बहुत सारी लड़कियों में व महिलाओं में माहवारी की समस्या ज्यादातर पाई जाती है| और वह संकोचवश इस बात को खुलकर नहीं कह पाती हैं| तो हो सकता है यह पोस्ट उन के लिए एक बेहद आसान और कामगार उपाय साबित हो सकती है|